महासमुंद पुलिस की सोशल मीडिया में उड़ी खिल्ली…पत्रकारों ने कहा 05 पेटी शराब के साथ कार की चालाक सीट पर जिसे पकड़ा उसे कार चलाना नहीं आता ये कैसी कार्रवाई!

महासमुंद। गुरुवार को ओडिशा से अवैध रूप से 05 कार्टून अंग्रेजी शराब परिवहन कर बसना छत्तीसगढ़ में खपाने के लिए ले जा रहे आरोपी रितिक कोटक पिता सुरेश कोटक उम्र 20 साल बसना  निवासी को पकड़ा है। इसके कब्जे से  एक सफेद रंग की i20 कार में 12 नग किंग फिशर कम्पनी का बियर बाटल, रॉयल स्टेज, मेकडावल समेत कई प्रकार की शराब जब्त की है। पुलिस ने शराब के साथ कार की कीमत 3 लाख 39 हजार 880 रुपए दर्ज की है। आरोपी के खिलाफ पुलिस ने अपराध धारा 34(2) आबकारी एक्ट के तहत  गिरफ्तार किया जाकर रिमांड  पर न्यायालय पेश किया गया।

लेकिन अब यह मामला सोशल मीडिया पर पुलिस हंसी का पात्र बन गया है। यहां पत्रकार और प्रशासनिक व्हाट्सएप ग्रुप में इस कार्रवाई को लेकर जो बाते सामने आ रही है। उसमें कहा जा रहा है कि पुलिस शराब के मुख्य संरगना रईसजादें को पुलिस बचा रही है। हालांकि इस मामले को लेकर वेबमोर्चा ने सिघोड़ा टीआई चंद्रकांत साहू के सरकारी नंबर 9479191288 पर दो अलग-अलग नंबरों से कॉल किया गया लेकिन उन्होंने रिसीव नहीं किए। हांलाकिं सोशल मीडिया में चल रहे चर्चा को वेबमोर्चा प्रमाणित नहीं करता।

तल्ख टिप्पणी: सोशल मीडिया पर मदद मांगना गलत नहीं, अफवाह कहकर एफआईआर हुई तो… सुप्रीम Court करेगा कार्रवाई

webmorcha.com
जानिए सोशल मीडिया में कैसे चल रही चर्चा

जानिए सोशल मीडिया में कैसे चल रही चर्चा

सराईपाली पत्रकार Savarbh गोयल ने लिखा: मामले में सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वाहन मालिक अपने वाहन को छुड़ाने लगातार थाने के चक्कर काट रहा है।

मनराखन सोनवानी ने पोस्ट करते हुए कहा. बसना के स्थानीय व्हाट्सअप ग्रुप में इस विषय में चर्चा चल रहा है। कि जिस युवक को गिरफ्तार किया गया है उसको तो कार चलाना नही आता, जब उसको कार चलाना नही आता तो फिर ओड़िशा से सिंघोड़ा थाना तक कौन वाहन चला कर आया???

काम की खबर: कोरोना से जीतना है तो जीवन शामिल कर लीजिए ये 10 बात

नीरज अग्रवाल ने कहा- पुलिस की एफआईआर में तो उक्त आरोपी ड्राइवर सीट में बैठा हुआ था।

इस पोस्ट के जवाब में पत्रकार राजेंद्र सिन्हा ने कहा- ऑटोमेटिक सिस्टम वाला होगा कार, जो बिना ड्राइवर के चलता हो।

फिर पत्रकार सौरभ ने कहा-मामले में सूत्र बताते हैं कि सूरज अग्रवाल नामक शख्स की भी भूमिका है। और उसे संरक्षण देते हुए वाहन चलाना ही नही जानने वाले के खिलाफ सिंघोड़ा पुलिस ने मामला बना दिया।

इन सब पोस्ट पर देश के राष्ट्रीय अखवार के पत्रकारों ने भी कामेंट किया है। पुलिस कार्रवाई का लेकर संदेह जताया है।