महासमुंद: शिक्षक की अस्पताल में लगाई ड्यूटी, हुआ कोरोना से मौत…जिम्मेदारी पर उठे सवाल  

महासमुंद। जिले के झलप प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में शिक्षक लव शुक्ला की ड़यूटी लगाई। ड्यूटी के बाद वे कोरोना संक्रमित हो गए। जिनकी रविवार शाम को मौत हो गई। लेकिन शिक्षक ने अपने पीछे कई सवाल खड़े कर दिए हैं। एक शिक्षक ने सोशल मीडिया में पोस्ट करते हुए कहा कि.. सरकारी तंत्र की भेट चढ़  गया  शिक्षा  जगत का अनमोल सितारा… कही दूर चला गया हमसे… लेकिन एक संदेश दे गया  कोई भी परिस्थिति हो  नौकरी तो करनी है.. चाहे वो सरकारी अस्पताल हो जहा vaccination में duty लगी हो… जहा कोरोना की जांच भी हो रही हो… वही  vaccinations  भी हो रहा हो… 3 अप्रैल से 2021 से सरकारी अस्पताल झलप में शिक्षक लव शुक्ला की duty लगी थी वही से वो + हुये… जिम्मेदारी कौन लेगा… अधिकारी लोग इस बात का जवाब नही दे पा रहे हैं।

इधर, छत्तीसगढ़ में कोविड प्रोटोकॉल सुरक्षा संसाधन शिक्षकों को नहीं दिए गए हैं। फ्रंटलाइन वारियर्स की श्रेणी में रखे बिना शिक्षकों की ड्यूटी राजस्व अमले ने कोरोना संक्रमण से मृत रोगियों के शव को लाने ले जाने, कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के बीच जाकर ट्रेसिंग करने, संक्रमण का माध्यम मोहल्ला क्लास चलाने जैसे कार्यों में लगाई है। शिक्षक संघ दो दिन पहले ही इसे अव्यवारिक आदेश बताते हुए विरोध किया था।

यहां पढ़ें: देश में Coronavirus का तांडव जारी, 24 घंटे में आए 2.75 लाख संक्रमित, 1625 मौतें

तुगलकी और अव्यवहारिक आदेशों को शीघ्र वापस लिए जाए

संध ने तत्काल इस पर रोक लगाते हुए इन तुगलकी आदेशों के परिपालन में कोरोना संक्रमित होकर अपनी जान गवां चुके दिवंगत शिक्षकों के परिवार को फ्रंट लाइन वारियर्स को दी जाने वाली 50 लाख की बीमा राशि और उनके घर के आश्रित को शासकीय नौकरी देने की मांग की है। संघ के प्रांताध्यक्ष वीरेंद्र दुबे ने शिक्षकों की ड्यूटी गैर शैक्षणिक कार्यों में लगाने का कड़ा प्रतिकार करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमित रोगियों के लाशों के परिवहन जैसे कार्यों में शिक्षकों की ड्यूटी लगाकर शिक्षक पद की गरिमा को ठेस पहुंचाई जा रही है। ऐसे तुगलकी और अव्यवहारिक आदेशों को शीघ्र वापस लिए जाए अन्यथा प्रदेश के समस्त शिक्षक इस जैसे अव्यवहारिक आदेशो का सामूहिक बहिष्कार करने को बाध्य होगा।

ये पुरानी पोस्ट भी सोशल मीडिया में हो रहा वायरल

webmorcha.com
ये पुरानी पोस्ट भी सोशल मीडिया में हो रहा वायरल

 

संगठन के महासचिव धर्मेश शर्मा, कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी एवं प्रदेश मीडिया प्रभारी जितेंद्र शर्मा ने बताया कि माननीय सुप्रीम कोर्ट ने भी शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्यों में संग्लन करने से मना किया है। इसके बावजूद स्थानीय शासन प्रशासन अनेक गैर शैक्षणिक कार्यों में जैसे चुनाव, जनगणना आदि में शिक्षकों की सेवाएं लेते रहे हैं।

यहां पढ़ें: दर्द: ओडिशा घर जाने निकले दंपत्ति, महासमुंद स्टेशन में पति की मौत, दहशत ऐसी कि चार घंटे बाद मिली मदद!

शिक्षक भी राष्ट्रहित का ध्यान रखते हुए इन कार्यों को सहर्ष करते आया है, लेकिन,  अब कुछ समय से शिक्षकों की ड्यूटी शिक्षक की गरिमा के प्रतिकूल कार्यों में भी लगाई जा रही है। कोरोना संक्रमितों मृत रोगियों के शव का परिवहन, कोरोना संक्रमितों की ट्रेसिंग, मोहल्ला क्लास जैसे कार्यों के लिए भी अव्यवारिक रूप से आदेशित किया जा रहा है। इसके कारण प्रदेश से प्रतिदिन सैकड़ों शिक्षकों के कोरोना संक्रमित हो काल कवलित होने के समाचार आ रहे हैं।

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123