महासमुंद: शराबबंदी नहीं अब यहां के ग्रामीण गांवों में बिकवा रहे शराब…जानिए जिले में कहां है भुसड़ी घाट!

0
1119
webmorcha.com
वायरल तस्वीर शराबबंदी

महासमुंद। प्रदेश में शराबबंदी की बात करना अब बेमानी साबित हो रही है। जिस तरह पूर्ववर्ती सरकार में शराब की गांवों में अवैध बिक्री हो रही थी। उसी राह पर अब एक बार चलने की तैयारी महासमुंद जिले में शुरू हो गई है। सरकार ने जहां अवैध बिक्री और ग्रामीण क्षेत्रों में शराब की उपलब्धता कम हो इसके लिए कई दुकानों को बंद किया है। लेकिन, कुछ ही दिनों में एक बार फिर तेजी से गांवों में अवैध शराब की बिक्री प्रारंभ हो रही है।

इस गांव में छत्तीसगढ़ नहीं ओड़िशा शराब का ठेका

चिंता तो इस बात का है कि छत्तीसगढ़ में ओड़िशा ब्रांड की शराब ग्रामीणों तक पहुंचाई जा रही है। इसके लिए बकायदा ठेका प्रथा भी चालू हो गई है। बागबाहरा ब्लॉक के साल्हेभाठा दईजबांधा ओडिशा सीमा भुसड़ी घाट में ओडिशा शराब बेचने के लिए यहां के पंचायत ने ठेका दिया है। यहां के सरपंच ने बताया कि यहां के सीमावर्ती में ओडिशा शराब बिक रहा है, लेकिन ठेका दिए हैं इसकी जानकारी नहीं है।

webmorcha.com
साल्हेभाठा दईजबांधा ओडिशा सीमा

नदी किनारे स्थिति इस गांव के ओडिशा सीमा पर शराब बिकवाई जा रही है। यहां तक पहुंचने में पुलिस को पहुंचने में भी भारी कठिनाई साबित होगी, इसलिए कि यहां तक चार-पहिया वाहन नहीं पहुंच सकता है। शाम होते ही नदी किनारे भारी संख्या में लोग शराब पीने और खरीदने पहुंचते हैं।

पूर्व CM डा. रमन बोलें, गंगाजल हाथ में लेकर शराबबंदी का जो कांग्रेस ने वादा किया था, अगर वो निभा देते तो आज यह 6 जानें बच जाती

जिले के मीडिया ग्रुप में वायरल खबर..क्या है आप भी जानिए

Somnath ने शुक्रवार देर शाम सोशल मीडिया में जानकारी देते हुए बताया कि: विश्वस्त सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार खल्लारी थाना अंतर्गत एम. के. बाहरा में गांव वालों के माध्यम से अवैध शराब बिक्री हेतु ठेका में दिया जा रहा है जहां अभी गांव में मीटिंग भी जारी है विदित हो कि इसी तर्ज पर झारा में भी अवैध शराब हेतू ठेका दिया गया है जहां धड़ल्ले से अवैध शराब की बिक्री जारी है…। ठेका में हिस्सा लेने के लिए महासमुंद से लेकर उड़ीसा सहित जगह-जगह से लोग मीटिंग में सम्मिलित हो रहे हैं।

पत्रकार रवि सेन इसके बाद सोशल मीडिया में लिखा… खल्लारी थाना अंतर्गत डूमरपाली में महिलाओं की अनूठी पहल एवं प्रशासनिक कसावट के बाद गांव में शराब बंदी हुई  है। लेकिन वही एम.के.बाहरा में ऐसे खुली बोली लगाकर ठेका देना निंदनीय है।

अरिहंत जैन ने कहा- ये गाडी तो फ़िर पुरानी पटरी पर दौड़ पडी, ठेका पद्धति के समय ऐसी सेटिंग हर ग्राम पंचायतो में होती थी, महीनाबंदी के अलावा त्यौहार में अलग चंदा,विशेष व्यवस्था और फ़िर गांव के बाहर झोपडी मे शराब बिक्री शुरू …

बताया जा रहा है खल्लारी थाना अंतर्गत ग्राम चरौदा में भी इस शराब बकवाने के लिए ठेका दी गई है।

इसके बाद सोमनाथ ने फिर कहा.. आखिरकार ठेका संपन्न प्लेन 110 , गोवा 150, एवम् बीयर 300  महासमुंद के एक रसूखदार शराब माफिया के द्वारा लिया गया।

नर्रा में पुलिस गिरफ्तारी का विरोध, ग्रामीणों ने किया चक्काजाम, शराबबंदी मामले में ग्रामीणों ने पुलिस पर किया था हमला