कोमाखानक्राइमदुर्ग

अपहरण मौलिक के पापा का मित्र निकला मास्टरमाइंड, महिला सहित 4 आरोपी धरे गए

दुर्ग. अपहरण मौलिक सुरक्षित अपने घर पहुंच गया, लेकिन इस अपहरण के साजिश रचने वाले गुनाहगार अब जेल के सलाखों के पीछे जल्द होंगे. बतादें कि 4 साल के मौलिक अपहरणकर्ता अब पुलिस के शिकंजे में हैं. दुर्ग पुलिस ने एक महिला सहित चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है. आरोपियों ने अपना गुनाह स्वीकार कर लिया है. सूत्रों के अनुसार बच्चे के अपहरण कांड की साजिश बच्चे के पापा चंद्रशेखर साहू के मित्र और पड़ोस में रहने वाले राजा साहू ने रची थी. बताया जा रहा है कि अपहरण की साजिश पैसे की वजह से रख् गई थी. कुछ माह पहले मौलिक के पापा ने जमीन बेची थी, जिसकी जानकारी अपहरणकर्ता को थी। मौलिक के पिता का दोस्त ड्राइवर है, जो अक्सर बाहर आना-जाना करता है.

http://ग्रामीणों ने प्रेमी जोड़े को जूतों की पहनाया माला, गुप्तांग में सरिया डालने लगे आरोप

नदी के तेज बहाव में फंसे बुजुर्ग को पुलिस ने बचाया

जशपुर. पुलिस उपनिरीक्षक अवनीश पासवान ने कल जशपुर के लोधम में संख नदी के पास एक बुजुर्ग व्यक्ति को बचा लिया, जो तेज बहाव में फंस गया था. पुलिस की बहादूरी की चर्चा लोगों में है. बताया जा रहा है कि बुजुर्ग जिस तेज बहाव में फंसा था, वहां से निल पाना कठिन था, लेकिन पुलिस के इस जवान ने अदम्य साहस दिखाते हुए उक्त बुजुर्ग को बचा लिया.

पुलिस ने किया खुलासा

घटना के दिन एक अपहर्ता सुबह से ही बच्चे के स्कूल जाने की गतिविधि पर नजर रखा हुआ था। जैसे ही बच्चे को लेने के लिए स्कूल वैन आई राजू के सहयोगी रूकेंद्र सिन्हा, हेमू साहू  को इसकी सूचना दी गई। तीनों आरोपी रुपेंद्र के अपाचे बाइक में सवार थे। थोड़ी दूर ही हेमू साहू ने स्कूल वैन के ड्राइवर पर कुत्ते को कुचल देने का आरोप लगाते हुए उलझ गया। इसी बीच रूकेंद्र साहू अपनी बाइक को स्कूल वैन से सटाकर खड़ा हो गया, विवाद के बीच ही राजकुमार वैन में बैठे बच्चे को जबरदस्ती उठाककर बाइक में बैठ गया। तब तक ड्राइवर से उलझना छोड़कर हेमू भी उसी बाइक में बैठ गया और तीनों एक ही बाइक में सवार होकर बच्चे सहित वहां से फरार हो गए।

थोड़ी दूर पर ही हेमू को बाइक से उतार दिया और राजकुमार और रूकेंद्र बच्चे को लेकर बोरसी, धनौद, चंदखुरी, अंजोरा, देवादा होते हुए राजनांदगांव के मगरलोटा गांव पहुंच गये। वहां रूपेंद्र की पत्नी के पास बच्चे को छोड़ दिया और फिर वापस पदमनाभपुर आ गया। इधर पुलिस के इंतजाम को लेकर राजकुमार काफी घबरा गया। उसे मालूम था कि बच्चा उसे पहचानता है और उसका भेद कभी भी खुल सकता है, लिहाजा बच्चे को छोड़ने का फैसला राजकुमार ने किया। रात करीब डेढ़ बचे बच्चे को सोमनी थाना के सामने छोड़कर आरोपी भाग गए।

[wds id=”1″]

हमसे जुड़िए…

https://twitter.com/home

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500, 8871342716, 7804033123

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button