कोमाखान

मिशन अमृत : छत्तीसगढ़ के नौ शहरों में हो रहे दो हजार करोड़ से ज्यादा के विकास कार्य

डेढ़ हजार करोड़ पेयजल के लिए सर्वाधिक खर्च

रायपुर।

  • केन्द्र सरकार के मिशन अमृत के तहत छत्तीसगढ़ के नौ शहरों में दो हजार करोड़ से ज्यादा के विकास कार्य हो रहे हैं।
  • इसमें से सर्वाधिक डेढ़ हजार करोड़ रुपए स्वच्छ पेयजल की बेहतर व्यवस्था पर खर्च की जा रही है।
  • यह जानकारी मुख्य सचिव अजय सिंह की अध्यक्षता में मंत्रालय (महानदी भवन) में मिशन अमृत (अटल शहरी नवीनीकरण एवं परिवर्तन मिशन) की राज्य स्तरीय हाई पावर कमेटी की बैठक में दी गई।
  • ये शहर है शामिल

  • उल्लेखनीय है कि मिशन अमृत योजना के तहत राज्य के नौ शहर – रायपुर, भिलाई, दुर्ग, बिलासपुर, कोरबा, राजनांदगांव, जगदलपुर, अम्बिकापुर और रायगढ़ शामिल किए गए हैं।
  • बैठक में बताया गया कि इन शहरों के नगरीय निकायों के सहयोग से यहां के लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने शहरों की स्वच्छता कव्हरड डे नेज सिस्टम और व्यवस्थित लोक परिवहन शहरों की हरियाली के लिए वहां के उद्यानों में सौंदर्यीकरण कार्य करने के लिए व्यापक परियोजना के तहत दो हजार 49 करोड़ 59 लाख रुपए की लागत से कार्य किया जा रहे हैं।
  • इन कार्यों में ज्यादा फोकस

  • बैठक में नगरीय प्रशासन विभाग के सचिव डॉ. रोहित यादव ने बताया कि मिशन अमृत में शामिल शहरों में जनता को पेयजल आपूर्ति के लिए लगभग एक हजार 552 करोड़।
  • सीवरेज और कवर्ड नाली प्रबंध व्यवस्था के लिए 459 करोड़ 96 लाख रुपए।
  • उद्यानों और पार्कों को हरा-भरा बनाने के लिए 37 करोड़ 63 लाख रुपए की कार्ययोजना पर अमल किया जा रहा है।
  • बैठक में वित्त विभाग के प्रमुख सचिव अमिताभ जैन, जल संसाधन विभाग के सचिव सोनमणि बोरा, आवास और पर्यावरण विभाग के सचिव संजय शुक्ला, ऊर्जा विभाग के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी, संचालक नगरीय प्रशासन निरंजन दास, आयुक्त रायपुर नगर निगम रजत बंसल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button