विश्व की सबसे ऊंची पर्वत चोटी पर छत्तीसगढ़ की नैना सिंह धाकड़ ने लहराया तिरंगा,  बीमार होने के बाद भी नहीं हारी हिम्मत

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ के बस्तर की बेटी नैना सिंह धाकड़ ने विश्व की सबसे ऊंची पर्वत चोटी (8848.86 मीटर) एवरेस्ट और चौथी सबसे ऊंची चोटी लोत्से (8516 मीटर) फतह कर कामयाबी की है। यह उपलब्धि हासिल करने वाली नैना छत्तीसगढ़ की पहली महिला बन गई हैं। विशेष बात ये है कि अत्यधिक थकान के चलते बीमार होने के बाद  उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी। बहरहाल, उनकी हालत ठीक है। CM भूपेश बघेल ने इस उपलब्धि के लिए उन्हें बधाई दी है।

नैना सिंह

बतादें, जगदलपुर से करीब 10 किमी दूर एक्टागुड़ा ग्राम की रहने वाली नैना सिंह करीब 10 वर्ष से पर्वतारोहण में सक्रिय हैं। उन्होंने 1 जून को यह उपलब्धि हासिल की और एवरेस्ट पर तिरंगा फहरा दिया। इस दौरान उन्होंने सबसे ऊंची पर्वत चोटी से विश्व को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश भी दिया। हालांकि उन्हें मंगलवार सुबह ही अपना अभियान पूरा कर लेना था, लेकिन तबीयत खराब होने के चलते इसमें थोड़ी देर हुई।

नैना सिंह
नैना सिंह

नैना को अपना अभियान पूरा कर लौट आना था, लेकिन अत्यधिक थकान के चलते वह बीमार हो गईं। इसकी जानकारी मिलने के बाद नेपाल के एक्सपर्ट शेरपा की मदद ली गई। वह पर्वत पर ऊपर चढ़े और शाम करीब 6 बजे Naina को रेस्क्यू कर कैंप-4 तक लेकर आए। फिलहाल नैना की हालत खतरे से बाहर है। नैना की इस उपलब्धि पर हर कोई खुश है। सरकार के साथ उनके दोस्तों और चाहने वालों ने भी बधाई दी है।

गरियाबंद: निगरानीशुदा गुंडे ने सोए हुए व्यक्ति को पीट-पीट कर मार डाला, आरोपी गिरफ्तार

Naina की इस जीत में भी बड़ा हाथ प्रदेश की एक अन्य बेटी का भी है। जो खुद तो इस ऊंचाई की लड़ाई में पिछड़ गई, लेकिन उनकी खेल भावना ने बेटियों को जीत दिला दी। प्रदेश की एक और पर्वतारोही याशी जैन भी एवरेस्ट फतह करने के लिए चढ़ी थीं, लेकिन चोटी तक पहुंचते हुए मौसम खराब होने के चलते उन्हें काठमांडू लौटना पड़ा। वहां से रायपुर आने वाली थीं कि दोपहर तक नैना की कोई खबर नहीं मिलने पर परेशान हो गईं।

नैना सिंह

करीब दोपहर 2 बजे याशी को पता चला कि नैना ज्यादा थकान के कारण बीमार हो गई हैं। ऐसे मे याशी ने परिजनों और प्रशासन से संपर्क साधकर Naina को सकुशल नीचे लाने का प्रयास शुरू किया। जगदलपुर कलेक्टर रजत बंसल ने नेपाल स्थित इंडियन ऐंबैसी से बात की और Naina के लिए रेस्क्यू आपरेशन शुरू हो गया। इसके बाद Naina को सकुशल बचाया जा सका। अब नैना नीचे आने की तैयारी कर रही हैं।

सीएम भूपेश बघेल ने कहा- छत्तीसगढ़ के लिए गौरव की बात

नैना सिंह धाकड़ की इस उपलब्धि की सीएम भूपेश बघेल ने सराहना की है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की गौरव, बस्तर की बेटी पर्वतारोही Naina सिंह धाकड़ द्वारा विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट फतह करने पर उन्हें बधाई और शुभकामनाएं। उन्होंने Naina के उज्जवल भविष्य की कामना की। साथ ही कहा कि नैना ने अपने दृढ़ संकल्प, इच्छाशक्ति तथा अदम्य साहस से यह कर दिखाया है।

छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने दी बधाई

छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने बस्तर की बेटी नैना सिंह धाकड़ के दुनिया के सबसे उच्च शिखर पर कदम रखने वाली छग की पहली महिला पर्वतारोही के खिताब के लिए बधाई, शुभकामनाएं देते हुए कहा कि, यह राज्य के लिये गौरव का विषय है, इससे छत्तीसगढ़ को राष्ट्रीय-अतंर्राष्ट्रीय स्तर पर एक नयी पहचान मिली है।