नई मुसीबत: जानिए क्या है West Nile वायरस, कैसे है खतरा और कैसे बचें?

0
67
webmorcha.com
West Nile

रायपुर। कोरोना संक्रमण का सामना कर रही विश्व के सामने एक नई मुसीबत ने चिंता बढ़ा दी है। रूस ने सर्दी में वेस्ट नील वायरस (West Nile) संक्रमण में संभावित बढ़ोत्तरी पर चेतावनी जारी की। उसका कहना है कि नम और सर्द वातावरण इस वायरस को फैलने का जिम्मेदार हो सकता है इसलिए कि नम और आद्र तापमान मच्छरों को अनुकूल अवसर देता है।

रूस की स्वास्थ्य नियामक एजेंसी रोसपेत्रोब्नाजोर ने कहा, “इस साल सर्दी के लंबा और आद्रता अधिक रहने का अनुमान लगाया जाता है। उसके संदर्भ में कहा जा सकता है कि वायरस फैलाने वाले मच्छर बड़ी संख्या में देखे जा सकते हैं।

वेस्ट नील वायरस (West Nile) संक्रमित मच्छर के काटने से फैलने वाली संक्रामक बीमारी है। ये पक्षियों से इंसानों में संक्रमित क्यूलेक्स मच्छर के काटने से फैलती है। ये इंसानों में गंभीर तंत्रिका संबंधी रोग जैसे इन्सेफेलाइटिस या मैनिंजाइटिस का कारण बन सकता है।

विश्व के सबसे डेंजर गेंदबाज ने एकाएक लिया संन्यास, मायूस हो गए फैंस

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, (West Nile) वायरस से करीब 20 फीसद मामलों में वेस्ट नील बुखार होता है। इसका संबंध जीका, डेंगू और पीला बुखार के वायरस से जोड़ा जाता है। सेंटर फोर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक वेस्ट नील वायरस (West Nile) अमेरिका में मच्छर से होने वाली बीमारी का प्रमुख कारण है। पहली बार अफ्रीका में वायरस सामने आने के बाद ये यूरोप, एशिया और उत्तरी अमेरिका तक फैल गया है।

वायरस से संक्रमित शख्स में आम तौर से कोई लक्षण दिखाई नहीं देता है या हल्का लक्षण होता है। लक्षणों में सिर दर्द, बदन दर्द, जोड़ का दर्द, डायरिया, बुखार, चकत्ते शामिल हैं। शरीर में ये लक्षण कुछ दिनों से लेकर कई सप्ताह रह सकता है, और आम तौर पर खुद से खत्म हो जाता है।

किसे है अधिक खतरा?

सीडीसी के अनुसार, वेस्ट नील (West Nile) वायरस से संक्रमित अधिकतर लोगों में बीमार के लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। संक्रमित 5 में से करीब एक व्यक्ति को सिर दर्द, बदन दर्द, जोड़ों का दर्द के साथ बुखार होता है। ज्यादातर ठीक होने वाले मरीजों में थकान और कमजोरी सप्ताह या महीनों रह सकते हैं। बुजुर्गों, बच्चों और कमजोर इम्यूनिटी वालों को सबसे अधिक बीमारी का खतरा है।

जानिए आपके जन्म तारीख मूलांक के अनुसार कैसे साबित होगा सितबंर का माह