Odisha: पुरी जिले में पीपली के पास इन्टैक ने खोजा 1400 वर्ष पुराना गुप्तकालीन Tample

पीटीआई, भुवनेश्वर। भारतीय राष्ट्रीय कला एवं सांस्कृतिक धरोहर न्यास (इन्टैक) की Odisha इकाई के सर्वेक्षण दल द्वारा पुरी जिले में एक प्राचीन मंदिर के अवशेष खोजे गए हैं जो छठी से सातवीं शताब्दी का हो सकता है। इन्टैक की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, यह गुप्तकाल के बाद के कालखंड के सर्वाधिक प्राचीन मंदिरों में से एक हो सकता है

इन्टैक के चार सदस्यीय दल ने पुरी शहर से 40 किलोमीटर उत्तर में पीपली क्षेत्र के बिरोपुरुषोत्तमपुर इलाके में स्थित प्राचीन स्थल का प्रलेखन किया। प्रेस विज्ञप्ति में परियोजना समन्वयक अनिल धीर ने कहा कि दल ने रत्नचिरा घाटी और उसके स्मारकों के विस्तृत सर्वेक्षण के दौरान इस अवशेष का पता लगाया।

ये भी पढ़ें…छत्तीसगढ़, ओडिशा समेत यहां मूसलाधार बारिश की चेतावनी, कई राज्यों में रेड अलर्ट जारी किया गया

इन्टैक के अनुसार, प्राची नदी की तरह, मिथकीय नदी रत्नचिरा भी विलुप्त होने वाली है। मान्यता है कि भगवान राम ने सीता की प्यास बुझाने के लिए उनकी मोती अंगूठी से नदी का निर्माण किया था। प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक गटेश्वर मंदिर के पास स्थित 1,400 साल पुराना मंदिर स्वप्नेश्वर महादेव के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर को अब तक दस्तावेज में शामिल नहीं किया गया था।

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123