ओडिशा: छत्तीसगढ़ में शामिल होने यहां 18 गांवों के ग्रामीण कर रहे प्रदर्शन

ओडिशा 18 गांवों प्रदर्शन। छत्तीसगढ़ की बार्डर से लगे ओडिशा के विकासखंड पाइकमाल ब्लॉक के 18 गांवों के लोग छत्तीसगढ़ में शामिल होने के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं। यहां के ग्रामीणों ने ओडिशा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि यहां जरा भी लोगों का ध्यान सरकार की ओर से नहीं दी जा रही है। इसलिए यहां के लेग छत्तीसगढ़ में शामिल होने प्रदर्शन कर रहे हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि यहां न तो सड़क है और न ही नदी-नालों में पुल-पुलिया बनाई गई है। इसके कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। दिलचस्प तो ये रहा कि ओडिशा के इस आंदोलन में छत्तीसगढ़ सराईपाली विधानसभा के विधायक शामिल हुए जिन्होंने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को से ओडिशा की इस समस्या को रखने का आश्वासन ओडिशा के ग्रामीणों को दी है।

भगवत गीता के 20 आचरण अपना लिए तो जीवन हो जाएगा मंगलमय

प्रदर्शनरत ग्रामीण सुरेश कुमार, जयराम साहू प्रधान ने बताया कि ओडिशा छोड़ छत्तीसगढ़ के साथ मिलने की इच्छा दुखदायी है। यातायात के लिए काफी समय से मांग किये जाने के बावजूद ओडिशा गर्वमेंट और किसी दल के नेताओं द्वारा इस मुद्दे पर कोई सुनवाई नहीं होने की से मजबूरन हमें छत्तीसगढ़ में शामिल होने की मजबूरी है।

सरायपाली विधायक को शामिल होना दुर्भाग्यजनक बताया

वहीं, ओडिशा बरगढ़ विधायक देवेश आचार्य ने बताया कि ओडिशा गर्वमेंट ग्रामीणों की मांग पूरी करने का आश्वासन दिया है। उन्होंने बताया कि इस मामले में सरकार बात हो चुकी है। उन्होंने सरायपाली विधायक के ग्रामीणों के आंदोलन में शामिल होने को दुर्भाग्यजनक बताया।

इधर, सरायपाली MLA ने इस मामले में बताया कि बरगढ़ जिले के चढ्डापाली ग्राम पंचायत के 18 गांव के ग्रामीणों को सुविधाएं नहीं मिल रही है। ग्रामीणों के बुलावे पर मै वहां पहुंचा था। मैने ग्रामीणों को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री से समस्या रखने की बात बता दी है।

https://twitter.com/home

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

 

Leave a Comment