मेरा गांव मेरा शहर

एक तरफ शासन गरीबों का आशियाना बना रही है, वहीं दूसरी ओर अफसर तोड़ रहे, महीनों से पेंड़ के नीचे जीवन-यापन करने वाले इस परिवार पर प्रशासन की नजर नहीं

महासमुंद. पिथौरा ब्लॉक के ग्राम भुरकोनी के आश्रित ग्राम झाकर पाली में 35 साल से निवासरत किरीत  राम साहू के मकान को तोड़ दिया गया था। परिवार भवन टूटने के बाद से पेड़ के नीचे जीवन-यापन कर रहे हैं। लेकिन इस परिवार का सूध महीनेभर बाद प्रशासन ने नहीं लिया। बतादें कि उक्त अपने पुराने कच्चे मकान को तोड़कर पक्का मकान बना रहे थे, लेकिन तहसीलदार के एक आदेश ने परिवार को सड़क पर आने को मजबूर कर दिया है।

पढ़िए गरीब की दर्दभरी दास्तान

  • उक्त परिवार गांव की महिला समूह लोन लेकर मकान बना रहा था।
  • भवन बनाने में उनका 2 से 3 लाख रुपए खर्च हो चुका है
  • हर साल परिवार पलायन कर अपना परिवार चला रहा है।
  • शासन-प्रशासन को कइ गुहार लगा चुके इस परिवार को अब तक झांकने तक नहीं गए।

जानिए : इनके दर्द को कौन जानने पहुंचा

पहुंची अमृता बजाज

  • कांग्रेस जोगी जनता के प्रदेश महिला अध्यक्ष अमृता बजाज परिवार से आकर मिले, और पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने की बात कही है।
  • इसके अलावा गांव की महिला समिति दुर्गा वाहिनी अध्यक्ष शारदा शारदा यादव अध्यक्ष सरिता अग्रवाल कोषाध्यक्ष सरिता दीवान सचिव विनय ठाकुर मीनाक्षी लाल माया नाम सरिता शेती जनपद सदस्य दिनेश चक्रधारी ललिता निषाद विलासिनी यादव भागवती ठाकुर पानबाई चुन्नी भाई अब इन सब एक होकर प्रदेश अध्यक्ष अमृता बजाज के साथ खड़े होकर पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने में मदद करने की बात कही है।
    अमृता बजाज पीड़ित परिवार से मिलने पहुंची
  • इसी परिपेक्ष्य में शासन-प्रशासन के नाम पर जांच करने और न्याय दिलाने पत्र सौपा है। जनता कांग्रेस ने कहा है अगर जल्द कार्रवाई और जांच नहीं हुई तो उग्र प्रदर्शन करने की चेतावनी दी है।

क्या कहा महिला समिति के सदस्य … पढ़िए:

  • महिला समिति के सदस्यों ने कहा दुलारी बाई के आशियाने को सरपंच के सह पर दुर्भावना पूर्वक प्रशासन को गुमराह कर ,गरीब के आशियाने को तोड़ने का कार्य किया है।
  • वर्तमान में इस चिलचिलाती गर्मी के मौसम में उस मजबूर परिवार के सर से छत छीन ली गई है और उस परिवार को पेड़ की छाव में रहने के लिए मजबूर कर दिया है।
  • एक तरह रमन सरकार गरीबो को आशियाने देने का विज्ञापन दे वाहवाही लूटने का काम कर रही है
  • तो वही उसका उल्टा महासमुंद जिले के अधिकारियों की तानाशाही रवैया अपना कर गरीबो का आशियाना बिना कोई सूचना तोड़ रहे है ये पूरी घटना मानवता को शर्म सार करने वाली है।

यहां पर परिवार की पूरी कहानी पढ़िए …

http://जिस तहसीलदार को सीएम ने मानवता का पाठ पढ़ाया था

http://पेंड के नीचे जीवन यापन करने की मजबूरी

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button