कोमाखानमेरा गांव मेरा शहर

नेताजी के आने पर सड़क में आई खुशहाली, इधर एक पिता बीमार बच्चे को कंधे में लेकर जर्जर सड़क का लिया सेल्फी

महासमुंद। सरकार की विकास की पोल एक अच्छी बरसात ने खोल दी है। बतादें कि पूरे जिले भर के सड़कों का हाल-बेहाल है। लेकिन मरम्मत की दिशा में काम नहीं किया जा रहा है। हां जरूर है जहां नेता और अफसर पहुंच रहे उन सड़कों में हरियाली लाई जा रही है। बतादें कि आज मंत्री बृजमोहन अग्रवाल का जिले में दौरा है।

सबसे नीचे देखिए : जर्जर सड़क की वीडियो

http://करोंड़ों घोटाला: सराईपाली आप ने दी चेतावनी-कार्रवाई नहीं तो किया जाएगा अपराधिक मामला दर्ज

इसी तारतम्य में नर्रा के एक कार्यक्रम में शामिल होने पहुंच रहे हैं। इसलिए नेता जी को गड्‌ढा न दिखे इसलिए अफसरों ने शुक्रवार की सुबह से ही सड़क पर बने जगह-जगह गड्‌ढों में मुरम डालने का काम किया गया।

नेताजी की खुशी में सड़क पर आई हरियाली
सन्नी केशरवानी

सन्नी केशरवानी ने बताया कि गड्‌ढें यहां कई दिनों से है, लेकिन नहीं सुधारा जा रहा था, अब मंत्री जी यहां आ रहे तो सड़क में हरियाली आई है।

बीमार बच्चे और दो किमी पैदल

बनपचरी पंचायत आश्रित ग्राम बरेकेल खुर्द के बोधन ध्रुव जो अपने बीमार बच्चे को कंधे में लेकर दो किमी पैदल चलकर मुख्य सड़क तक पहुंचा। बोधन ध्रुव ने बताया कि मोहल्ले में करीब 200 लोग निवासरत हैं, ग्राम सुराज, जनदर्शन, पंच सरपंच को कई बार सड़क को ठीक करने की मांग किए हैं। बावजूद किसी के द्वारा ध्यान नहीं दिया गया। हर साल सड़क पर पंचायत द्वारा मिट्‌टी डाल दी जाती है जिसमें मोटरसाईकिल तो छोड़ों इस रास्ते में पैदल चलना भी मुश्किल होता है।

http://अज्ञात कारणों से सिरपुर जंगल में जंगली हाथी की मौत, जांच में जुटे वन अधिकारी

इस सड़क के पांच महीने पहले प्रांकलन

ग्रामीणों द्वारा शासन को लोकसुराज के माध्यम से सड़क की मांग किए। इसके एवज 23 फरवरी 2018 को मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के अफसरों ने शासन को यह जवाब दिया कि बरेकेल पक्की सड़क से जुड़ा हुआ है।

http://प्रदेश के मुखिया ने हाथी भगाने दी थी गणेश पूजा सलाह, अब तो मंत्री भी कर रहे अनुष्ठान

मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के करनेटवर्क में शामिल नहीं है। बरेकेल की जनसंख्या 16 सौ है। स्थल निरीक्षरण कर प्रथम स्तरीय ग्राम प्रांककलन निर्धारित प्रपत्र अ ब स में  सड़क बरेकेल से भाठापारा तक अनुमानित लागत 51.67 लाख का प्राक्कलन किया गया है। जबकि ग्रामीण हर साल शासन से कुछ इसी तरह की मांग करते आ रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button