मेरा गांव मेरा शहर

24 घंटे के लिए सिर्फ एक डाक्टर, रोज माताएं हो रही सिस्टम के शिकार, इधर मामले को लेकर साहू समाज आक्रोशित, कहा सुधार नहीं तो होगी जनअंदोलन

महासमुंद. जिले के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में लोगों को इलाज नहीं मिल रहा है। इसकी मुख्य वजह डाक्टर का अभाव बताया जा रहा है। बतादें कि यहां 24 घंटे के लिए एकमात्र स्त्रीरोग विशेषज्ञ पदस्थ हैं। डाक्टर साहब अपने 8 घंटे ड्यूटी के बाद चले जाते हैं, इसके बाद यहां बचे 16 घंटे के दौरान रोजाना प्रसुता माताओं को अपने हाल पर रहना पड़ता है। अस्पताल के लिए यह आम बात हो गई है। 16 के दौरान प्रसुताओं को नर्स के भरोसे छोड़ दिया जाता है।

साहू समाज आक्रोशित

सबसे नीचे देखिए वीडियो: सिविल सर्जन कक्ष में मितानिन ने क्या कहा

भुरका के सावित्री के साथ घटित घटना के बाद साहू समाज आक्रोशित हो गए हैं। समाज के लोगों ने प्रसुता और उनके परिवार से मुलाकात कर उन्हें फल भेंट किया।

साथ ही घटना को लेकर अस्पताल प्रबंधन से कहा कि अगर जल्द ही अस्पताल में व्ववस्था सुधार नहीं किया गया तो इसके लिए जनआंदोलन किया जाएगा। साहू समाज महासमुंद के मुन्ना साहू तहसील अध्यक्ष, गौकरण साहू जिला महामंत्री, रवि साहू नगर अध्यक्ष, सुभाष साहू कोषाध्यक्ष युवा प्रकोष्ठ, निखिल कांत साहू सभांगीय सचिव जितेन्द्र साहू परिक्षेत्र अध्यक्ष युवा प्रकोष्ठ, जितेन्द्र साहू, राजू साहू पार्षद संगठन सचिव, आनंद साहू संगठन सचिव, अनिल साहू, आशीष साहू, तेजा साहू्, उत्तम साहू, तुषार साहू मौजूद रहे।

विज्ञापन

बधाई

यहां पर पढ़िए : पूरी घटनाक्रम

http://लापरवाही से प्रसुता कई घंटे तड़फती रही

http://स्वास्थ्य संचानालय ने जांच के दिए आदेश

एक घटना थमा नहीं दूसरी घटना सामने आई

साहू समाज के लोग सिविल सर्जन कक्ष में प्रबंधन से बात कर रहे थे। ठीक उसी वक्त छुरा ब्लॉक के ग्राम पाटसिवनी की मितानिन सिविल कक्ष के भीतर घुसा और कहा साहब प्रसुता के पेट से बच्चे का सिर सुबह से निकल गया है। पाटसिवनी स्वास्थ केंद्र में पहुंचे तो महासमुंद के लिए रेफर किया। 12 बजे से आए हैं एक भी डाक्टर देखने नहीं पहुंचे हैं, नर्स द्वारा 2 घंटे बाद कहा जा रहा है कि इसे रायपुर ले जाओं, मितानिन की बात सुनकर सबके कान सुन्न पड़ गए। यहां मौजूद डा. एनके मंडपे और साथी स्टाप डाक्टर ने तत्त्काल एकमात्र स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. सचदेव को फोन लगाकर पूछा कि कहां पहूंचे हो, तब उन्हें पता चला कि जल्द पहुंचने वाले हैं। कक्ष से ही डाक्टर ने फोन लगाकर प्रसुति कक्ष में तैनात कर्मचारियों को इसकी सूचना दी।

इधर जांच के आदेश लेकिन स्टाप ही नहीं

इधर, घटना को लेकर स्वास्थ्य संचालनालय ने जांच के निर्देश दिए हैं। लेकिन जिस वक्त प्रसुता तड़फ रही थी उस वक्त विशेषज्ञ डाक्टर ही नहीं थे। ऐसे में एक बार फिर जांच पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

देखिए वीडियो: मितानिन ने सिविल सर्जन रूम में पहुंचकर क्या कहा

Related Articles

One Comment

  1. Nowadays, a normal human is not normal. Behind this statement, there is a huge reason i.e, every person carries tension or stress regarding their life problems, health issues, love life. Where our company astroindusoot come to resolve your different issues with the help of the position of *_grahs_* and *_nakshatras_* and consult you how to rectify them either through _*Nava Graha Pooja*_ or through _*Astro products*_

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button