महासमुन्दमेरा गांव मेरा शहर

सड़क निर्माण में अनियमितता का किया विरोध तो ग्रामीणों को धमका रहे ठेकेदार

शिकायत पर निरीक्षण करने पहुंचे विधायक चोपड़ा

महासमुंद।

विधायक डॉ. विमल चोपड़ा ने 2 करोड़ की लागत से बन रही ग्राम बंबुरडीह से केरामुरा पहुंच मार्ग एवं पुल-पुलिया निर्माण कार्य का निरीक्षण किया।

निरीक्षण के दौरान विधायक ने देखा कि सड़क निर्माण कार्य के ठेकेदार द्वारा भारी अनियमितता बरती जा रही है। जिस स्टीमेंट के आधार पर मार्ग का निर्माण होना है, उसके तहत निर्माण कार्य नहीं कराया जा रहा है।
इस दौरान ग्रामीणों ने विधायक चोपड़ा को बताया कि सड़क निर्माण में अनियमितता के संबंध में बोलने पर ठेकेदार द्वारा हमें धमकाया जाता है। निर्माण कार्य में मनमानी किया जा रहा है।
ग्रामीणों ने बताया कि कार्य करने के उपरांत इसका वीडियो रिकार्ड भी किया गया है।

ग्रामीणों की शिकायत सही  http://यहां पढ़े…

विधायक चोपड़ा ने गांव वालों के शिकायत पर अचानक पहुंचकर सड़क निर्माण कार्य निरीक्षण किया, जहां उन्होंने ग्रामीणों की शिकायत को सभी सही पाया।
निरीक्षण में पाया गया कि सड़क निर्माण के वो हिस्से जहां सीसी किया जा रहा है, वहां मिट्टी युक्त रेत का उपयोग किया जा रहा है। रेत में मिट्टी भी है।
सड़क निर्माण में जो मशाला बनाया गया, वह भी बहुत ही निम्न क्वालिटी का है। पहले से बने सीसी में भी क्यूरिंग नही किया जा रहा है। निर्माणाधीन सड़क में क्यूरिंग ही नहीं किया जा रहा है।
सड़क में वाइब्रेटर ठीक से नहीं चलाया जा रहा है। पूरे मार्ग में झिल्ली बिछाने के बजाए सड़क के किनारों में झिल्ली डाली जा रही है।
पूर्व में किए गए बेस कांक्रीट पर भी क्यूरिंग नहीं किया गया और बेस भी बहुत ही घटिया किया है।

पुल-पुलिया निर्माण कार्य में भी लापरवाही

विधायक चोपड़ा रोड में बने पुल-पुलिया निर्माण का भी जायजा लिया गया। जिसमें पाया गया कि पुलिया घटिया बनाया गया है।
गांव के प्रारंभ में पानी निकलने के लिए पुलिया बनाना था, वहां पर पुलिया नहीं बनाई गई है।
विधायक ने कहा है कि दैनिक उपयोग के लिए बनाया जा रहा मार्ग में भारी अनियमितता बरती जा रही है, जो कुछ ही दिनों में गुणवत्तायुक्त ना होने के कारण टूटने लगेगी।

जांच कराने के निर्देश  http://यहां पढ़े..

उन्होंने मौके पर ही लोक निर्माण विभाग के उच्चाधिकारी से फोन पर चर्चा कर निर्माण कार्य को रोक कर जांच करने के निर्देश दिए।
उन्होंने बताया कि एम 30 के मशाले के बजाए एम 10 के मशाले का उपयोग किया जा रहा है। उन्होने कहा है कि जब तक जांच नहीं होती, तब तक कार्य को रोके और जहां-जहां खराब कांक्रीट है, उसे उखड़वाने के भी निर्देश दिए।
निरीक्षण के दौरान भारतीय जनता किसान मजदूर संघ पटेवा मंडल अध्यक्ष प्रेमलाल यादव, जोन प्रभारी तुकाराम कोसरे, भोलाराम विश्वकर्मा, मनहरण साहू मौजूद थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button