महासमुन्द

पीएम आवास योजना ने डमरूलाल को बनाया पक्के मकान का मालिक

रक्षा मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने किया अवलोकन

महासमुंद। प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) गरीब परिवारों के लिए लाभकारी सिद्ध हो रही है। शासन की इस महती योजना से लाभान्वित महासमुंद विकासखंड के ग्राम बरेकेल कला के निवासी डमरूलाल दीवान का पक्के मकान का सपना प्रधानमंत्री आवास योजना से साकार हुआ है।

  • शासन की इस योजना से लाभ पाकर डमरूलाल बहुत खुश हैं।
  • ग्राम स्वराज अभियान के तहत विगत 27 अप्रैल को भारत शासन के रक्षा मंत्रालय की संयुक्त सचिव निधि छिब्बर, कलेक्टर हिमशिखर गुप्ता एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतुराज रघुवंशी ने डमरूलाल के नवनिर्मित आवास का दीप प्रज्ज्वलित कर तथा फीता काटकर गृह प्रवेश कराया और उनके आवास का अवलोकन किया।
  • इस दौरान डमरू लाल ने रक्षा मंत्रालय की संयुक्त सचिव, कलेक्टर एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को अपने बीच पाकर गौरवांन्वित महसूस कर रहे थे।
  • उल्लेखनीय है कि मेहनत मजदूरी से जीवन यापन करने वाला यह परिवार पहले खपरैल के कच्चे घर में रहता था।

सपने में नहीं सोचा था

  • इस परिवार के सदस्यों ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उनका खुद का एक पक्का मकान होगा।
  • अब उनका सपना प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना की वजह से हकीकत बन गया है।
  • मिट्टी और खपरैल की छत वाले मकान में रहने वाला डमरूलाल अब सीमेंट कांक्रीट की छत वाले मकान का मालिक बन गया है।
  • आवास बनाने के लिए उन्हें वर्ष 2017-18 में एक लाख 48 हजार रुपए की राशि स्वीकृत की गई थी।
  • इस राशि में कुछ अपनी जमा पूंजी को मिलाकर उन्होंने अपना बड़ा-सा पक्का मकान बना लिया है।

सहारा बनकर आई है योजना  http://यहां पढ़िए…

  • दीवान की माता देवशिला दीवान बताती हैं कि पक्के मकान को साफ-सुथरा रखना आसान हो जाएगी।
  • उन्हें खाना बनाने के लिए प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत गैस कनेक्शन भी मिला हुआ है और चूल्हा रखने के लिए प्लेटफार्म का भी निर्माण कराया है। उनके घर में शौचालय भी बन गया है।
  • उन्होंने केन्द्र एवं राज्य शासन के इस महती योजना के बारे में बताते हुए कहा कि हम जैसे गरीब परिवारों के लोगों के लिए यह योजना काफी सहारा बन कर आई है, जिसके कारण हमें पक्का मकान दिया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button