PM मोदी आज लांच करेंगे ‘ओडिशा इतिहास’ का HINDI वर्जन, जानिए इसलिए अहम है ये किताब

PM मोदी अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में आज दोपहर 12 बजे ‘उत्कल केशरी’ डॉ. हरेकृष्ण महताब लिखी गई किताब ‘ओडिशा इतिहास’ का HINDI वर्जन लॉन्च करेंगे. अब तक उड़िया और अंग्रेजी में मौजूद इस किताब का हिंदी में अनुवाद शंकरलाल पुरोहित ने किया है. केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और सांसद भर्तृहरि महताब भी इस मौके पर मौजूद रहेंगे. हिंदी संस्करण के विमोचन का कार्यक्रम हरेकृष्णा महताब फाउंडेशन आयोजित कर रहा है. PMO ने इस संबंध में जानकारी साझा की है. डॉ. हरेकृष्ण महताब भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन का हिस्सा थे. उन्होंने Odisha के मुख्यमंत्री के रूप में भी काम किया. उन्होंने अहमदनगर किला जेल में ‘ओडिशा इतिहास’ नाम की ये किताब लिखी. इस जेल में वो दो साल से ज्यादा 1942-1945 के दौरान रहे.‘ओडिशा इतिहास’ डॉ. हरेकृष्ण महताब की सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली किताबों में से एक है.

जेल में लिखी थी किताब

हरेकृष्ण महताब एक स्वतंत्रता सेनानी थे और वह Odisha के पहले मुख्यमंत्री भी थे. उन्होंने 1946 से 1950 तक ओडिशा के मुख्यमंत्री के रूप में काम किया. वह संविधान सभा के सदस्य और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के बड़े राजनेताओं में से एक थे. उन्हें लोकप्रिय उपाधि ‘उत्कल केसरी’ के नाम से जाना जाता है. स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल होने के लिए उन्होंने पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी थी. वह 1942 से 1945 तक लगभग दो साल अहमदनगर फोर्ट जेल में रहे और उसी दौरान उन्होंने ओडिशा के इतिहास पर आधारित यह किताब लिखी. साल 1948 में ‘ओडिशा इतिहास’ का उड़िया एडिशन प्रकाशित किया गया था.

छत्तीसगढ़ कमांडो की रिहाई की दिल दहलाने वाली स्टोरी: 40 नक्सली और हजारों ग्रामीणों के बीच हुई रिहाई…आखिर कमांडो की रिहाई की असल वजह जानिए….

Odisha का इतिहास

इस किताब में ओडिशा (Odisha) के इतिहास के बारे में बताया गया है. वर्तमान ओडिशा राज्य तीन प्रदेशों औड्र, उत्कल और कलिंग के मिलने से बना है जिसका विस्तार प्राचीन काल में शबरों की भूमि से शुरू हुआ और फिर द्रविड़ और आर्य सभ्यता के प्रभाव से पैदा हुई नई सभ्यता के रूप में हुआ. इसमें कहा गया है कि द्रविड़ भाषा में ‘ओक्वल’ और ‘ओडिसु’ शब्द का मतलब ‘किसान’ है. कन्नड़ भाषा में किसान को ‘ओक्कलगार’ कहते हैं. मजदूरों को तेलगु भाषा में ‘ओडिसु’ कहा जाता है. इन ‘ओक्कल’ और ‘ओडिसु’ शब्दों से आर्यों ने संस्कृत में ‘उत्कल’ और ओड्र’ शब्द बनाए.

(भाषा इनपुट के साथ)

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123

Leave a Comment