क्राइम

डरा-धमका करता था वसूली, एटीएम के साथ सूदखोर को पुलिस ने दबोचा

महासमुंद। कौशिक कालोनी के मोहनीस सागर पिता स्व. योगेन्द्र सागर (20) सिटी कोतवाली में शिकायत किया। उन्होंने अपने शिकायत में पुलिस को बताया कि बीटीआई रोड शंशाक जैन ऊर्फ राजा पिता राकेश जैन पूर्व मे लिए उधारी के पैसे का ब्याज रकम मांगने पर नहीं देने पर फंसा देने की धमकी व मारपीट की धमकी देने एवं गिरवी के रूप में एटीएम का पासवर्ड रख कर एटीएम से पैसा निकालने की सूचना दी। पुलिस ने मामले की गंभीरता को लेते हुए बुधवार की शाम शंशक जैन के घर में छापामार कार्रवाई किया। सिटी कोतवाली पुलिस ने आरोपी सूदखोर के खिलाफ 384, 4 छग ऋणीयो का संरक्षण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है।

पुलिस ने ऐसे दर्ज किया मामला

  • विजया बैंक खाता से जारी एटीएम क्रमांक 6075 8976 2900 6079 को आरोपी शशांक जैन के द्वारा रखकर ब्याज रकम मांगने एवं नहीं देने पर फंसा देने की धमकी,
  • मारपीट की धमकी देने के संबंध में लिखित आवेदन पर पुलिस ने छापेमारी किया।

यह भी पढ़िए प्रार्थी ने ऐसे दिया आवेदन

  • मोहनिश सागर दूरिया पिता स्व. श्री योगेंद्र सागर दूरिया शिक्षा विभाग में क्लर्क है।
  • इन्हें विभाग से 18 हजार रुपए वेतन मिलता है। पूर्व में इनका खाता स्टेट बैंक महासमुंद था।
  • लेकिन वर्तमान में वेतन विजया बैंक में जमा हो रहा है।
  • प्रार्थी के  पिता स्व़. योगेंद्र सागर दूरिया ने घरेलू काम आ पड़ने से शशांक जैन उर्फ राजा से 2016 में डेढ़ लाख रुपए 5 प्रतिशत ब्याज की दर से उधारी लिया था।
  • जिसका ब्याज मेरे पिता के द्वारा प्रति माह दिया जा रहा था।
  • इस बीच 11 मार्च 2017 को मेरे पिताजी की मृत्यु हो जाने के बाद शशांक जैन मेरे घर आकर कहा कि तुम्हारा पिता ने जो उधार रकम लिया है,
  • उसे तुम्हे वापस करना है, नहीं तो ठीक नहीं होगा कहकर धमकी दिया एवं मेरा SBI एवं विजया बैंक का ATM एवं पासवर्ड ले गया।

प्रार्थी ने बताया मां को डराकर एक लाख रुपए किया था वसूली

  • मेरे पिता स्व. श्री योगेंद्र सागर दूरिया का जीआईएस का पैसा मिलने पर 1,50,000 रुपए का चेक मिलने पर मेरी मां ने अपने खाते में उक्त पैसा जमा कराया था।
  • जिसे शशांक जैन मेरी मां के खाते से डरा धमकाकर एक लाख रुपए जमा करा लिया।
  • इस तरह हमने उसका पैसा चुका दिया था फिर भी वह हमारा एटीएम वापस न कर और रकम मांग रहा था।
  • मेरी अनुकम्पा नियुक्ति हो जाने के पश्चात जब मेरा वेतन मेरे SBI खाता में माह अगस्त 2017 से अप्रैल 2018 तक का वेतन एवं विजया बैंक के खाता में मई 2018 का वेतन जमा हुआ।
  • तो शशांक जैन ने मुझे कहा कि अब तुम्हें वेतन मिल रहा है।
  • अब तुम्हें पूरा पैसा ब्याज सहित वापस करना होगा, नहीं किया तो ठीक नहीं होगा कहकर पैसा मेरे खाता से निकालता रहा।
  • एटीएम वापस मांगने पर फंसा देने की धमकी ,मारपीट की धमकी देता था।
  • इस तरह ब्याज का पैसा काटकर बाकी पैसा मैं तुम्हें दे दूंगा कहकर ब्याज की रकम काट कर मुझे 7-8 हजार रूपये हर माह देने लगा।
  • मैंने उसे कई बार एटीएम मांगा लेकिन उसने मुझे मेरा एटीएम कार्ड वापस नहीं किया।
  • अपने पास ही रखा है।
  • शशांक जैन कर्ज की रकम वसूली करने के लिये मुझे मामले में फंसा देने की धमकी कोर्ट कचहरी में मामला चलाने की धमकी एवं मारपीट करने की धमकी देकर मेरा एटीएम कार्ड रख लिया है।
  • जिससे मैं आवश्यकता पड़ने पर अपने खाते से पैसा नहीं निकाल पा रहा हूं।
  • मुझे पता चला है कि शशांक जैन मेरे जैसे कई लोगों को उधारी देने के बाद उन लोगों के भी एटीएम कार्ड को रख लिया है तथा सभी के एटीएम कार्ड से खुद पैसा निकालते रहता है।

पुलिस और कर सकती है खुलासा

  • बतादें कि प्रार्थी ने अपने आवेदन में बताया है कि उनके साथ और कई लोगों ब्याज में रकम दिया है, तथा उनका भी एटीएम को आरोपी द्वारा रखे जाने की बात कही है।
  • पुलिस ने इस दिशा में कार्रवाई करते हुए आरोपी के घर में छापा मारा जहां कई एटीएम और खता-बही जब्त करने की बात कही जा रही है,
  • हालांकि सिटी कोतवाली पुलिस अपने एफआईआर में अभी तक आरोपी के कब्जे से किया जब्त किया है, खुलासा नहीं किया है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button