देश/विदेशमेरा गांव मेरा शहर

देश के उत्तरी राज्यों में बारिश का कहर, 38 की मौत, दिल्ली में यमुना खतरे के निशान पर

नई दिल्ली। देश के उत्तरी राज्यों में बारिश से 38 लोगों की मौत हो गई। उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में कई जगह हुए भूस्खलन के कारण सैकड़ों लोग फंस गए हैं। वर्षा के कारण पंजाब, हरियाणा और जम्मू के कई इलाकों में बाढ़ आ गई है। भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टरों ने सोमवार को जम्मू और करनाल जिलों में बचाव अभियान चलाया। पंजाब और हरियाणा के कई हिस्सों में प्रशासन अलर्ट पर है। समूचे क्षेत्र में सोमवार को बारिश में कमी आई है, लेकिन क्षेत्र में बह रही नदियां उफान पर चल रही हैं।

भाखड़ा बांध का जलस्तर 1 फुट ऊपर निकला : हरिद्वार और दिल्ली में नदियों का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया है जबकि भाखड़ा बांध में जलस्तर तय सीमा से 1 फुट ऊपर निकल गया है। हिमाचल प्रदेश में 3 और लोगों की मौत होने की खबर है, जिससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 25 हो गई है। राज्य में सप्ताहांत पर हुई भारी बारिश की वजह से बाढ़ आ गई और भूस्खलन हुआ।

यहां पढ़ें : http://अपने नाम के अनुसार आज क्या करें कि दिन शुभ हो, पढ़ें सरल उपाय

यमुना नदी दिल्ली के 6 जिलों से गुजरती है जहां के निचल इलाकों में बाढ़ आ सकती है। प्रशासन ने दुर्घटनावश डूबने की घटनाओं को रोकने के लिए 30 नौकाओं को तैनात किया है। वहीं नदी में पानी का स्तर बढ़ने से पूर्वी दिल्ली में स्थित निगम बोध घाट का एक हिस्सा पानी में डूब गया। यमुना नदी पर बने पुराने लोहे के पुल को एहतियाती उपाय के तहत यातायात के लिए बंद कर दिया गया है। उत्तराखंड में बादल फटने से मची तबाही : उत्तराखंड में सोमवार को 2 और शव मिलने के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 12 हो गई है। उत्तरकाशी जिले में बादल फटने से एक दर्जन से ज्यादा गांवों में तबाही मची है। कोटा बैराज से चंबल में पानी छोड़ने की वजह से उत्तरप्रदेश के इटावा में 16 साल का लड़का डूब गया।

http://जोमैटो के डिलीवरी ब्वॉय ने गाया ‘गोरी तेरा गांव बड़ा प्यारा’ गाना, देखिए वायरल VIDEO

मानसरोवर यात्रा मार्ग में भूस्खलन : पारंपरिक लिपुलेख मार्ग से जाने वाली कैलाश मानसरोवर यात्रा रास्ते में भूस्खलन की वजह से रोकनी पड़ी है। पिथौरागढ़ के जिलाधिकारी वीके जोगडांडे ने बताया कि सुरक्षा कारणों से 56 तीर्थयात्रियों वाले 17वें जत्थे को आधार शिविर वापस बुला लिया गया है। गंगा नदी खतरे के निशान के ऊपर : उत्तराखंड में अधिकतर नदियां उफान पर हैं। गंगा नदी हरिद्वार में खतरे के निशान को पार कर गई है और ऋषिकेश में खतरे के निशान के करीब बह रही है। उत्तरकाशी आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया कि सोमवार को मौसम साफ होने के बाद बचाव अभियान को गति दी गई तो शाम में मकुदी से 2 शव मिले। उन्होंने बताया कि 5 लेाग अब भी लापता हैं।

सोने के गहने नहीं पहनने देता पति, पत्नी ने दर्ज कराई एफआईआर

हमसे जुड़िए…

https://twitter.com/home

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500, 8871342716, 7804033123

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button