रायपुर: मुसलाधार बारिश के बीच शिक्षक भर्ती के उम्मीदवार ने किया प्रदर्शन देखें वीडियों

रायपुर राजधानी की सड़क पर गुरुवार को शिक्षक जूते पॉलिश करते दिखें। शिक्षकों ने सरकार ने इन्हें रोजगार दिया नहीं, अब बेरोजगारी के कारण घर चलाना मुश्किल है। इसीलिए जूते पॉलिश कर के दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करेंगे। प्रदेशभर से आए ये शिक्षक CM निवास का घेराव करने के लिए निकले थे। रास्ते में ही बैरिकेडिंग कर Police ने रोक लिया तो नाराज होकर वहीं मुंडन कराने बैठ गए।

इस कारण से सड़क पर शिक्षक

बतादें, 2019 में सरकारी स्कूलों में पढ़ाने के लिए सरकार ने 14580 युवाओं को चुना मगर अब तक नियुक्ति नहीं दी गई। करीब ढाई साल से नौकरी दिए जाने की मांग की जा रही है। छत्तीसगढ़ के प्रशिक्षित डीएड-बीएड संघ संगठन के प्रमुख दाउद खान ने बताया कि प्रदेश में 14 हजार 580 शिक्षकों का चयन हो चुका है मगर भर्ती नहीं हो रही। इससे पहले सभी शिक्षक किसी न किसी प्राइवेट स्कूल में नौकरी कर रहे थे, सभी ने इस आस में नौकरी छोड़ दी कि उन्हें सरकार की तरफ से रोजगार मिलना था। अब कोई दूसरी नौकरी इसलिए नहीं मिलती क्योंकि ये उम्मीदवार चयनित हैं, लॉकडाउन में सभी शिक्षकों की माली हालत और भी खराब हो गई मगर सरकार ने ध्यान नहीं दिया।

पूर्व कलेक्टर एव भाजपा नेता ओपी चौधरी ने कहा-

राजधानी रायपुर में,मुसलाधार बारिश के बीच,शिक्षक भर्ती के उम्मीदवार,हमारे छत्तीसगढ़ी भाई-बहन,जिन्हें आजकल चयनित बेरोजगार कहा जाता है,उन्होंने आज राजधानी रायपुर में प्रदर्शन किया। इनसे कोई बात तक करने नहीं आ रहा है।तत्काल इन्हें नियुक्ति पत्र दिया जाये।