राजनांदगांव: जेवर से भरे बैग ऑटो में छूटा, ईमानदारी ड्राइवर बैग लेकर थाने पहुंचा

राजनांदगांव (Rajnandgaon) जिले में एक ऑटो ड्राइवर (auto driver) ने ईमानदारी की मिसाल पेश की है. ऑटो (auto) में छूटे गहनों से भरे बैक को उसने वापस मालिक तक पहुंचाने का काम किया है.

0
541
webmorcha.com
ईमानदारी

राजनांदगांव- ईमानदारी अभी खत्म नहीं हुई है। इस मिसाल को आज लोग जीवित रखें हैं। ऐसा ही एक वाक्या गुरुवार को छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के राजनांदगांव (Rajnandgaon) में देखने को मिला। शहर के ऑटो ड्राइवर की गाड़ी में एक व्यक्ति अपना जेवरों से भरा बैग भूल गया. ऑटो ड्राइवर (auto driver) को जब बैग मिला तो वो फौरन उसे लेकर पुलिस (Police) के पास पहुंचा. Police ने बैग के मालिक को फोन कर बुलाया और उसे अपना सामान दिया. इतना ही नहीं ऑटो ड्राइवर (auto driver) की ईमानदारी देख Police ने उसकी काफी तारीफ की.

बतादें,  राजनांदगांव के कोतवाली थाने पहुंचकर एक सख्स ने करीब 2 लाख के जेवरों से भरा बैग Police को सौंपा है. ऑटो चालक ने ईमानदारी की मिसाल पेश की है. राजनांदगांव शहर के ममता नगर निवासी ऑटो चालक देवेश सिंग ने के ऑटो (auto driver) में चंद्रपुर निवासी एक शख्स सवारी कर रहा था. इसी दौरान उसके सोने- चांदी से भरा बैग ऑटो में छूट गया. ऑटो चालक ने पूरी ईमानदारी के साथ उस व्यक्ति का बैग कोतवाली थाने में पहुंचाया.

CG: नौ माह से गायब लेडी पुलिस फूल बेचते हुए मिली…विभागीय अफसरों से तंग आकर वृंदावन चली गई..पढ़िए क्या है स्टोरी

पुलिस ने की auto चालक की तारीफ

कोतवाली Police द्वारा तत्काल ऑटो सवार व्यक्ति को फोन कर बुलवाया गया और सोने-चांदी से भरा बैग वापस किया गया. सोने चांदी से भरे बैग वापस पाकर ऑटो में सवार हुए जितेंद्र देशमुख ऑटो चालक auto की ईमानदारी से प्रभावित हुए और उनकी तारीफ की. वहीं Police ने भी इमानदारी की मिसाल पेश करने पर देवेश सिंग की प्रशंसा की. इस प्रकार ऑटो चालक ने ईमानदारी की मिसाल पेश करते हुए एक बार फिर संस्कारधानी नगरी कहे जाने वाले राजनांदगांव का नाम रोशन किया है. वहीं सोने चांदी से भरे बैग देने के लिए ऑटो सवार व्यक्ति ने ऑटो auto चालक की प्रशंसा की साथ ही पुलिस की भी प्रशंसा करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया.

आज के जमाने में कुछ रुपए के लिए ही मर्डर, लूट और चोरी जैसी घटना  हो जाती हैं वहीं ऑटो चालक auto ने लगभग ₹200000 के सोने-चांदी को थाने में जाकर सुपुर्द किया और अपनी ईमानदारी की पहचान दिखाई. यह एक जीता जागता उदाहरण है कि आज के इस युग में भी ईमानदार लोग हैं, जो दूसरे की संपत्ति की तरफ बुरी नजर नहीं रखते. दूसरे की संपत्ति अगर गुम हो जाए या उनके पास कहीं मिल जाए तो उसे उस संपत्ति मालिक तक या Police तक पहुंचा देते हैं.