बलात्कारी राम रहीम ने तलवार से केक काटा, 40 दिन जेल से रहेगा बाहर

Ram Rahim: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Ram Rahim) को तलवार से केक काटकर अपनी आजादी का जश्न मनाते देखा गया. कोर्ट से 40 दिन की पैरोल मिलने के बाद राम रहीम (Ram Rahim) शनिवार को बागपत स्थित अपने बरनावा आश्रम पहुंचे. वह रोहतक की सुनारिया जेल में दुष्कर्म और हत्या के मामले में सजा काट रहे हैं.

जश्न में कई अनुयायी शामिल हुए.

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख (Ram Rahim) के पैरोल के दौरान केक काटते हुए वायरल वीडियो ने कई लोगों की भौंहें चढ़ा दी हैं. उनके जश्न में कई अनुयायी शामिल हुए. हथियार अधिनियम के तहत हथियारों के सार्वजनिक प्रदर्शन यानी तलवार से केक काटना प्रतिबंधित है. यह दूसरी बार है जब राम रहीम (Ram Rahim) ने किसी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए 40 दिन की पैरोल मांगी है. इससे पहले राम रहीम को अक्टूबर 2022 में 40 दिनों के पैरोल पर रिहा किया गया था. उन्हें हरियाणा पंचायत चुनाव और आदमपुर विधानसभा उपचुनाव से पहले भी पैरोल दी गई थी.

इन जातकों पर मंगल की रहेगी दृष्टि, मिलेगी भरपूर सफलता

डेरा प्रमुख (Ram Rahim) 2017 से हरियाणा की सुनारिया जेल में बंद है, जहां वह सिरसा में अपने आश्रम के मुख्यालय में दो महिला शिष्यों से बलात्कार के आरोप में 20 साल की सजा काट रहा है. अगस्त 2017 में, पंचकुला की एक विशेष CBI अदालत ने उन्हें दो महिला अनुयायियों के साथ बलात्कार करने का दोषी ठहराया.

शनिवार को आए जेल से बाहर

राम रहीम सिंह (Ram Rahim) को शनिवार को हरियाणा के रोहतक जिले की सुनारिया जेल से 40 दिन की पैरोल पर रिहा किया गया. भारी सुरक्षा के बीच उन्हें उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के बनवारा आश्रम ले जाया गया. स्वयंभू धर्मगुरु ने पूर्व डेरा प्रमुख शाह सतनाम सिंह की जयंती, जो 25 जनवरी को पड़ती है, में शामिल होने के लिए 40 दिन की पैरोल देने के लिए आवेदन किया था. पिछले साल उन्हें 40 दिन की पैरोल, 21 दिन की फर्लो और एक महीने की नियमित पैरोल दी गई थी.

Pooja Hegde ने शेयर की अपने भाई की Wedding Photos! ऋचा चड्ढा पर फिर चढ़ा बोल्डनेस का ऐसा जबरदस्त खुमार! Chanakya Niti: किसी भी परिस्थिति में सफल हो जाते हैं ऐसे लोग, बुरा वक्त रहता है कोसों दूर रोहित नहीं तो कौन बनेगा टीम इंडिया का कप्तान? दिग्गज बोले- ये दो खिलाड़ी सबसे बड़े दावेदार खराब समय में भी ऐसे लोगों से न मांगें मदद, पढ़ें क्या कहती है चाणक्य की नीति