केन्द्रीय पूल में चावल जमा कराने में छत्तीसगढ़ की रिकार्ड उपलब्धि

छत्तीसगढ़ ने एफसीआई और नॉन में जमा कराया एक लाख 55 हजार मीटरिक टन चावल 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप इस साल समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की व्यवस्था के समानान्तर समितियों से धान का उठाव एवं कस्टम मिलिंग और केन्द्रीय पूल में चावल जमा कराने के मामले में भी छत्तीसगढ़ राज्य ने रिकार्ड उपलब्धि हासिल की है। धान खरीदी के महज 22 दिनों के भीतर ही छत्तीसगढ़ राज्य ने कस्टम मिलिंग के एवज में केन्द्रीय पूल में 1 लाख 56 हजार मीटरिक टन चावल जमा करा दिया है, जिसमें एफसीआई में 1 लाख 19 हजार मीटरिक टन और नॉन में 36 हजार 800 मीटरिक टन चावल की मात्रा शामिल है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केन्द्रीय पूल में तेजी से चावल जमा कराए जाने पर धान खरीदी से लेकर कस्टम मिलिंग की व्यवस्था से जुड़े सभी अधिकारियोंकर्मचारियों के प्रयासों की सराहना की है। मुख्यमंत्री ने उम्मीद जतायी है कि राज्य में सुव्यवस्थित तरीके से धान खरीदी के साथसाथ कस्टम मिलिंग और चावल जमा कराने का यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा।  राज्य में एक दिसम्बर से समर्थन मूल्य पर शुरू हुई धान खरीदी के बीते 22 दिनों में 40 लाख 31 हजार 143 मीटरिक टन धान की समर्थन मूल्य पर खरीदी की जा चुकी है। यह राज्य में अनुमानित धान खरीदी लक्ष्य का 38.39 प्रतिशत है। किसानों से 2484 धान उपार्जन केन्द्रों के माध्यम से धान खरीदी की जा रही है।

http://चिटफंड कम्पनी-संचालकों की सम्पत्ति के कुर्की और नीलामी प्रक्रिया में तेजी लाने के निर्देश

धान खरीदी के एवज में किसानों को भुगतान के लिए अब तक 6751 करोड़ 37 लाख रूपए जारी किया जा चुका है। राज्य में समर्थन मूल्य पर अब तक 10 लाख 84 हजार 550 किसान धान बेच चुके है। खाद्य सचिव टोपेश्वर वर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर इस वर्ष धान खरीदी के साथसाथ कस्टम मिलिंग के लिए धान का उठाव भी तेजी से किया जा रहा है। भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) और छत्तीसगढ़ खाद्य नागरिक आपूर्ति निगम को कस्टम मिलिंग के पश्चात् अब तक 1 लाख 55 हजार मीटरिक टन का चावल जमा कराया जा चुका है। यह छत्तीसगढ़ राज्य के लिए अब तक की उल्लेखनीय उपलब्धि है।

वर्मा ने बताया कि कस्टम मिलिंग के लिए मिलर्स नियमित रूप से धान का तेजी से उठाव कर रहे है। अब तक 13 लाख 85 हजार 438 मीटरिक टन धान का डीओ जारी कर दिया गया है। उपार्जन केन्द्रों से मिलर्स द्वारा 9 लाख 96 हजार 792 मीटरिक धान का उठाव कर चुके है।  धान उपार्जन के मामले में राजनांदगांव जिला, प्रदेश में अग्रणी है। राजनांदगांव जिले में 3,78,638 मीटरिक टन से अधिक धान की खरीदी हो चुकी है। जांजगीरचांपा जिला प्रदेश में धान खरीदी में दूसरे पायदान पर है, जिले में 3,22,125 मीटरिक टन धान की खरीदी हुई है। बेमेतरा जिला धान खरीदी में आज राज्य में तीसरे क्रम पर है। बेमेतरा जिला में 3 लाख 029 मीटरिक टन धान की खरीदी की गई है। 

 

 

Back to top button