रिसर्च: लैंसेट जर्नल बोलें- हवा के जरिए तेजी से फैलता है कोविड, तीन देशों के विशेषज्ञ को इसके मिले पुख्ता सबूत

स्वास्थ्य पर रिसर्च करने वाले विश्व के सबसे बड़े मेडिकल जर्नल लैंसेट (Medical journal lancet) ने कहा है कि कोविड वायरस हवा से फैलता है। अपने सर्वे में पत्रिका ने दावा किया है कि हवा से संक्रमण के फैलने के पुख्ता सबूत हैं। ब्रिटेन, अमेरिका और कनाडा के 6 विशेषज्ञ ने बताया कि हवा से संक्रमण फैलने के कारण ही संक्रमण (Infection) रोकने के लिए किए जा रहे उपाय काम नहीं कर रहे हैं और ये लोगों में फैल रहा है।

विशेषज्ञों ने कहा है कि बड़े ड्रॉपलेट्स से संक्रमण (Infection) के फैलाव के सबूत नहीं मिले हैं। ऐसे में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन और दूसरी हेल्थ एजेंसियां संक्रमण फैलने की बताई गई वजहों में बदलाव करें, ताकि वायरस को रोका जा सके।

यहां पढ़ें: MP: हॉस्पीटल ने संक्रमित को बताया मृत, परिजन ने की अंतिम संस्कार की तैयारी, हुआ जिंदा

विशेषज्ञों ने रिसर्च के इन पॉइंट्स के आधार पर किया दावा

सुपर स्प्रेडर इवेंट में मिले केस: विशेषज्ञों ने रिसर्च के रिव्यू के बाद हवा से फैलने के दावे को मजबूत करने वाले कुछ सबूत रखे हैं। इसमें टॉप पर सुपर स्प्रेडर इवेंट्स का जिक्र है। इनमें कागिट चोयर इवेंट के बारे में बताया गया है। इसमें एक ही संक्रमित (Infection) से 53 लोगों में वायरस फैल गया। इवेंट की रिसर्च से साफ हुआ कि ये लोग एक-दूसरे के करीब नहीं गए और न मिले। इसके साथ एक ही सतह को बार-बार छुआ भी नहीं। अर्थात हवा से ही इन लोगों में संक्रमण फैला।

खुले में संक्रमण का फैलाव अधिक: रिसर्च में बताया गया है कि इनडोर की जगह आउटडोर वायरस अधिक फैलता है। हवादार इनडोर कमरों में वायरस (Infection) के फैलाव की दर बाहरी वातावरण के मुकाबले कम पाई गई है।

साइलेंट ट्रांसमिशन से सबसे अधिक फैलाव: संक्रमण (Infection) का साइलेंट ट्रांसमिशन उन लोगों से अधिक होता है, जिनमें सर्दी, खांसी के लक्षण नहीं पाए जाते हैं। संक्रमण के कुल ट्रांसमिशन का 40% हिस्सा इस तरह के संक्रमण से ही होता है। यही साइलेंट ट्रांसमिशन पूरी विश्व में संक्रमण के फैलने की मुख्य वजह रही और इस आधार पर ही संक्रमण (Infection) के हवा से फैलने की थ्योरी साबित होती है।