ज्योतिष/धर्म/व्रत/त्येाहार

वृश्चिक राशि के जातकों को दिसबंर में मिलेगी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी

वृच्चिक राशि के जातकों को लिए दिसंबर  2021 कई माइनों में महत्वपूर्ण होगा। इस माह वृश्चिक राशि कई नई जिम्मेदारियां मिलने की प्रबल संभावना है, इससे आपको अपने कैरियर में आगे बढ़ते हुए नई ऊँचाईयां प्राप्त करने में मदद मिलेगी। वेतन बढ़ोत्तरी की तलाश कर रहे जातकों को भी, इस दौरान लाभ मिलने के योग बने हुए हैं। कार्य क्षेत्र से संबंधित छोटी दूरी की यात्रा करना पड़ सकता है, जो आपके लिए बहुत लाभदायक रहेगा।

कार्यक्षेत्र

कैरियर और कार्यक्षेत्र पर दिसंबर 2021 में आपको, सम्मानजनक फल मिलने की प्रबल संभावना है। इस माह 5 दिसंबर 2021 को आपकी राशि के लग्न भाव में मंगल का गोचर कर रहा है। आपको अधिक ऊर्जावान, उत्साही और अपने लक्ष्यों की ओर केंद्रित करने वाला साबित होगा। इससे आप अपने पूर्व के सभी पुराने अधूरे पड़े कार्यो को आसानी से पूरा कर सकेंगे।

आर्थिक

दिसबंर 2021 में आर्थिक क्षेत्र के लिए यह महीना अच्छा रहेगा। वृश्चिक राशि के लिए लाभ और मुनाफ़े से भरपूर रहेगा। इसलिए माह के शुरुआती दिनों में आपके एकादश भाव के स्वामी बुध का दूसरे भाव में विराजमान होना, आपके लिए भाग्य का साथ लेकर आएगा। बुध का यह गोचर आपको कई अवसर प्रदान करते हुए, आपकी प्रतिष्ठा और आमदनी में भी बढ़ोत्तरी के योग बनाएगा।

तुला राशि के जातकों को दिसबंर में कार्यक्षेत्र में मिलेगी भरपूर सफलता

सेहत

दिसबंर माह में आपका सेहत भी बढ़िया रहेगा। इसलिए कि शुरुआत से ही लग्न भाव के स्वामी मंगल अपने ही भाव में मौजूद रहेंगे, इससे आपकी स्वास्थ्य से जुड़े कई सकारात्मक परिणाम प्रदान हो सकेंगे। संभावना है कि मंगल की ये शुभ स्थिति आपको अपनी किसी ऐसे पुरानी बीमारियों से भी कुछ राहत दिलाए, जो आपको लंबे समय से परेशान कर रही थी।

प्रेम व वैवाहिक

वैवाहिक जातकों को दिसबंर माह में  सावधान रहने की सलाह दी जाती है। क्योंकि आपके लग्न भाव में केतु और मंगल की उपस्थिति, आपके स्वभाव में क्रोध और दूसरों के ऊपर खुद को सर्वोपरि रखने की आपकी प्रवृत्ति में बढ़ोत्तरी कर सकती है। जिससे आपका अपने साथी के साथ न चाहते हुए भी, अहंकार का टकराव और मनमुटाव संभव है।

पारिवारिक

दिसंबर 2021 का यह महीना, पारिवारिक जीवन के लिए से अच्छी दिखाई दे रहा है। इसलिए कि इस पूरे ही महीने आपके दूसरे भाव के स्वामी गुरु बृहस्पति का आपके चतुर्थ भाव में विराजमान होना, घर-परिवार के वातावरण में शांति और सद्भावना कायम करेगा। यदि परिवार के सदस्यों के बीच कोई मतभेद था तो, वो भी इस दौरान हल हो सकेगा।

उपाय

रविवार संडे के दिन गुड़ और गेहूं का दान करें।

मंगलवार के दिन, भगवान कार्तिकेय की पूजा करें।

प्रतिदिन सुबह मस्तक और नाभि पर केसर का टीका लगाएं।

मंगलवार के दिन भगवान बजरंगबलि की आराधना करते हुए, उन्हें मीठे अर्पित करें।

हमसे जुड़िए

Followthislink WhatsApp

https://chat.whatsapp.com/GifNpp6MKWgCY9B5vi7xN

Related Articles

Back to top button