ज्योतिष/धर्म/व्रत/त्येाहारमेरा गांव मेरा शहर

जीवन में ऐसे संकट बार-बार आए कही शनि तो कमजोर नहीं, करें ये उपाय

कुंडली में शनि अशुभ संकेत में हों तो उनकी शांति के उपाय करने में देरी बिल्कुल नहीं करनी चाहिए, नहीं तो बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है। शनि का आप पर प्रकोप है, इससे कुछ संकेतों के माध्यम सरलता से पहचाना जा सकता है.

जीवन में ऐसे संकट बार-बार आए कही शनि तो कमजोर नहीं, करें ये उपाय ज्योतिष शास्त्र में 9 ग्रह के साथ 12 राशियां मौजूद होते हैं। इसमें शनि ग्रह का प्रमुख भूमिका रहता है। मार्च माह में शनि शुक्र की स्वराशि मकर में गोचर कर रहे हैं। शनि और शुक्रदेव के बीच मित्रता का भाव रखता है। शनि ग्रह को भी प्रभावशाली ग्रह माना गया है. शनि देव मानव जीवन के अच्छे-बुरे कर्मों के अनुसार, फल देते हैं. बढ़िया कर्म करने वाले को शुभ फल और बुरे कर्म करने वाले को दंडित करते हैं.

पहले ये जानें जीवन में शनि के भारी हो तो ऐसे दिखते हैं लक्षण

शनि की यदि किसी पर बुरी नजर हो या कुंडली में शनि अशुभ स्थिति में हो तो उस व्‍यक्ति को अपने जीवन में इसके कुछ संकेत मिलते हैं. जब शनि के भारी होने के ऐसे संकेत मिलें तो व्‍यक्ति को सावधान हो जाना चाहिए और शनि को मजबूत करने के उपाय कर लेने चाहिए.

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि व्‍यक्ति पर शनि बुरा असर डाले तो उसके बाल तेजी से झड़ने लगते हैं. इसके पीछे कोई बीमारी भी कारण हो सकती है. ऐसे में डॉक्‍टर से भी सलाह लें और शनि को प्रसन्‍न करने के लिए उपाय करें.

शनि का अशुभ असर निजी जिंदगी और कामकाज दोनों को नुकसान पहुंचाता है. शनि अशुभ हो तो व्‍यापार में नुकसान होता है, धन हानि होती है. आग लग सकती है. निजी जीवन में झगड़े बढ़ जाते हैं. घर में अशांति रहती है.

शुक्र एवं चंद्रमा का संचार, इन राशियों के लिए बेहद खास होगा समय

शनि भारी हो तो माथे पर कालापन आ जाता है या माथे का तेज खत्‍म हो जाता है. ऐसा होना मान-सम्‍मान में हानि करवाता है.

शनि का प्रकोप होने पर व्‍यक्ति मांसाहार और तामसिक भोजन ज्‍यादा करने लगता है. वह नशे, जुआ, सट्टा की लत पाल लेता है. अनैतिक काम करने लगता है.

शनि का अशुभ असर व्‍यक्ति के स्‍वभाव में चिड़चिड़ापन और गुस्‍सा ला देता है. साथ ही जातक बात-बात पर झूठ बोलने लगता है.

शनि के बुरे प्रभाव से बचने के लिए करें ये उपाय:-

कारोबार में लाभ हेतु काला सुरमा भूमि में दबाना चाहिए।

रोटी में सरसों तेल लगाकर कुत्ते को खिलाना चाहिए।

शनिवार के दिन शनि मंदिर में छाया दान करना चाहिए।

तिल, उड़द, लोहा, तेल, काला वस्त्र और जूता दान देना चाहिए।

आचारण को शुद्ध रखें एवं मांस मदिरा से परहेज रखें।

जुआ सट्टा न खेंले, ब्याज का धंधा न करें।

पति या पत्नी के प्रति वफादार बनकर रहें।

प्रतिदिन हनुमान चालीसा पढ़ें

दांत साफ रखें।

हमेशा सिर ढक कर ही मंदिर जाएं।

झूठी गवाही से बचें।

पिता और पुत्र का कभी अनादर ना करें।

नास्तिक और नास्तिकता के विचारों से दूर रहें।

भैरव बाबा को शराब चढ़ाएं।

कौवे और कुत्ते को प्रतिदिन रोटी खिलाएं।

अंधे, अपंगों, सेवकों और सफाइकर्मियों को खुश रखें और उन्हें दान दें।

शहद का सेवन करें, शहद में काले तिल मिलाकर मंदिर में दान करें या शहद को घर में हमेशा रखें।

https://twitter.com/WebMorcha

 

https://www.facebook.com/webmorcha

 

https://www.instagram.com/webmorcha/

Related Articles

Back to top button