10वीं-12वीं के Syllabus में कटौती, साल में दो बार एग्जाम, Result को लेकर तैयार नया फॉर्मूला

नई दिल्ली,पहले हिस्से की परीक्षा नवंबर-दिसंबर में कराई जाएगी, जबकि दूसरे टर्म की परीक्षा मार्च-अप्रैल में होगी. इससे पहले बोर्ड ने इस साल होने वाली 10वीं-12वीं की परीक्षा भी कोरोना के चलते रद्द कर दी थी. दरअसल, केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड  ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर 10वीं और 12वीं की अगले साल होने वाली बोर्ड परीक्षा के लिए विशेष मूल्यांकन योजना तैयार की है. इस योजना के तहत सत्र को दो हिस्सों में बांटा जाएगा. इस दौरान इस बात का खास ख्याल रखा जाएगा कि छात्रों का पाठ्यक्रम युक्तिसंगत रहे. साथ ही बोर्ड के मुताबिक छात्रों के प्रदर्शन का आंतरिक मूल्यांकन और प्रोजेक्ट वर्क बेहतर व विश्वसनीय तरीके से हो, इसकी भी व्यवस्था की जाएगी.

सीबीएसई के डायरेक्टर जोसेफ इमैनुएल ने बताया कि पहले टर्म की परीक्षा नवंबर-दिसंबर, 2021 में होगी जबकि दूसरे टर्म की परीक्षा मार्च-अप्रैल, 2022 में होगी. उन्होंने कहा, शिक्षण सत्र 2021-22 के लिए पाठ्यक्रम को युक्तिसंगत तरीके से दो टर्म में बांटा जाएगा, इसके लिए विषयों के विशेषज्ञों की सहायता ली जाएगी.
उन्होंने कहा, पाठ्य्रकम को दो हिस्सों में बांटे जाने के आधार पर प्रत्येक टर्म के अंत में बोर्ड परीक्षाएं कराएगा. शिक्षण सत्र के अंत में बोर्ड द्वारा 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं कराने की संभावनाओं को बढ़ाने के लक्ष्य से ऐसा किया गया है. बोर्ड परीक्षा 2021-22 के पाठ्यक्रम को जुलाई 2021 में अधिसूचित अंतिम शिक्षण सत्र के लिहाज से तैयार किया जाएगा

सीबीएसई की ये योजना कोरोना महामारी के कारण उत्पन्न हुए संकट को देखते हुए शुरू की गई है. कोरोना के कारण ही पिछले वर्ष कुछ विषयों की बोर्ड परीक्षा और इस वर्ष 10वीं-12वीं की बोर्ड परीक्षा को रद्द करना पड़ा था.