वृषभ Rashi – स्वास्थ्य

वृषभ Rashi के जातकों को विशेष रूप से पेट की कोई शिकायत रहती है। गैस्टिक दर्द, संविधात, शक्कर की बीमारी, आंखों में तकलीफ, गले में रोग आदि बीमारियां होने का भय बना रहता है। इस Rashi वाले व्यक्तियों की मृत्यु अधिकतर हृदयाघात (हार्ट अटैक) होने से ही होती है।

वैसे तो ये स्वस्थ ही रहते हैं लेकिन जब इनकी Rashi में गोचर में अशुभ ग्रह आते हैं या शुक्र ग्रह निर्बल होता है तो शरीर में अधोलिखित रोगों के लक्षण दृष्टिगोचर होने लगते हैं- वीर्य विकार, मूत्र रोग, नेत्र रोग, मुख रोग, पांडु, गुप्त रोग, प्रमेह, वीर्य की कमी, संभोग में अक्षमता, काम की अधिकता के कारण स्नायुविक दुर्बलता, मधुमेह,
वात एवं श्लेष्म विकार, स्वप्न दोष, शीघ्रपतन, धातु क्षय, कफ एवं कब्ज, वायु विकार एवं कोष्ठकबद्धता आदि उत्पन्न हो जाते हैं। इनके लिए छाछ, फल, नीबू, सूखा मेवा, पालक, टमाटर आदि का सेवन लाभप्रद रहता है। वृषभ Rashi वाले व्यक्ति शरीर से दुर्बल हों तो उन्हें पौष्टिक अन्न अधिक ग्रहण करना चाहिए तथा चर्बीयुक्त पदार्थ कम खाना चाहिए।

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123

Leave a Comment