कलेक्टर ने अधिकारियों की बैठक लेकर कोविड-19 के संक्रमण के नियंत्रण के लिए किए जा रहे कार्यों की समीक्षा की

महासमुंद। कलेक्टर डोमन सिंह ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में वीडियों कांन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण के रोकथाम के लिए सभी विभागों को समन्वय के साथ और अधिक मुस्तैदी से काम करना होगा। तभी हम इस महामारी की लड़ाई से जीत पायेंगे। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आकाश छिकारा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में उन्होंने अधिकारियों से जिले में कोविड-19 के धनात्मक प्रकरण, एक्टिव केस, टीकाकरण की जानकारी, टीकाकर्मियों के संबंध में, होम आइसोलेशन, डिस्चार्ज, रिक्त बिस्तरों की जानकारी,

http://सीएम ने रायपुर में 100 बिस्तरीय जैनम् कोविड हॉस्पिटल का किया शुभारंभ

चिकित्सालय में आक्सीजन बेड एवं उसके बैकअप प्लान, दवाईयों, प्लाज्मा, इंजेक्शन के उपयोग में मेडिकल आडिट, फायर आडिट, नगरीय निकायों द्वारा दी गई  सामग्री की जानकारी, सीमावर्ती क्षेत्रों की व्यवस्था, क्वारेंटाईन सेंटर, रेलवे स्टेशन में टेस्टिंग की जानकारी, कंटेनमेंट जोन की व्यवस्था, कोविड टेस्ट, कांटेक्ट ट्रेसिंग, रेमडेसिविर इंजेक्शन की जानकारी, क्वारेंटाईन सेंटर में रूके हुए लोगों की जानकारी, सामग्री वितरण, दान में प्राप्त सामग्री, थर्मल, आक्सीमीटर एवं मितानिनों की दवा पेटी में दवाईयों की उपलब्धता आदि की जानकारी लेते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। अधिकारियों ने बताया कि जिले के शासकीय चिकित्सालयों में कोविड-19 के मरीजों के उपचार के लिए कुल 501 बेड की व्यवस्था की गई है।

इनमें 132 आक्सीजनयुक्त बेड की व्यवस्था 369 बिना आक्सीजनयुक्त बेड शामिल है। इसी तरह 04 मई 2021 तक जिले में दो लाख 46 हजार 733 व्यक्तियों का कोविड-19 का टेस्ट किया गया है। इनमें आरटीपीसीआर के माध्यम से 58,370, ट्रू नाॅट ट्रू से 24,020 एवं रैपिड एंटीजन टेस्ट के माध्यम से 01,64,343 व्यक्तियों का टेस्ट किया गया है। जिले में 4968 कोविड-19 के सक्रिय प्रकरण है। चिकित्सालयों से अब तक 19 हजार 566 लोग स्वस्थ्य होकर अपने-अपने घर लौट चुके है। कोविड-19 से जिले में 259 लोगों की मृत्यु हुई है। अन्य स्थलों से आने वाले लोगों के लिए ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में क्वारेंटाईन सेंटर बनाए गए है। जिसमें अब तक ग्रामीण क्षेत्र में 1292 लोगों को क्वारंटाईन सेंटर में ठहराया जा चुका है

और निर्धारित सात दिवस पूर्ण होने पर 370 लोग अपने-अपने घर लौट चुके है। वर्तमान में 922 लोग क्वारेंटाईन सेंटर पर रूके हुए है। इसी तरह शहरी क्षेत्र में 55 लोगों को क्वारेंटाईन सेंटर पर ठहराया गया था तथा सात दिवस पूर्ण होने पर 46 लोग अपने निवास स्थल जा चुके है। इसके अलावा जिले में छत्तीसगढ़ से बाहर जाने के लिए 2659 व्यक्तियों ने आवेदन किया था। जिसमें से 1064 लोगों को अनुमति प्रदान की गई है। जिले के सभी विकासखण्डों के ग्रामीण अंचलों में जरूरतमंद लोगों को सूखा राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। अब तक 5432 फूड पैकेट का वितरण किया जा चुका है। इनमें महासमुन्द विकासखण्ड में 312, बागबाहरा में 604, पिथौरा में 482, बसना में 544 एवं सरायपाली विकासखण्ड में 3490 फूड पैकेट का वितरण किया गया है।

इसी तरह जिले के शहरी क्षेत्र में जरूरतमंद लोगों को सूखा राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। अब तक 3525 फूड पैकेट का वितरण किया जा चुका है। इनमें महासमुन्द विकासखण्ड में 2410, बागबाहरा में 280, पिथौरा में 370, बसना में 280 एवं सरायपाली विकासखण्ड में 185 फूड पैकेट का वितरण किया गया है। इसी प्रकार जिले के सभी विकासखण्ड के दान-दाताआंे के द्वारा कोविड-19 के इस महामारी से निपटने एवं मरीजों के बेहतर उपचार के लिए आगे आकर आक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन, आक्सीजन सिलेण्डर एवं जेम्बो सिलेण्डर दान कर रहें है। इनमें अब तक 27 आक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन एवं 55 आॅक्सीजन सिलेण्डर संबंधित क्षेत्रों के शासकीय चिकित्सालयों को उपलब्ध कराई गई है।

http://सीएम बघेल द्वारा मितानिनों की मांग पर निःशुल्क मास्क व सेनिटाइजर उपलब्ध कराने की घोषणा

उन्होंने बताया कि जिले के अंतर्राज्यीय सीमावर्ती क्षेत्रों से आए 3358 व्यक्तिों में से 2040 संदेहास्पद व्यक्तियों का कोविड-19 का टेस्ट किया गया। उनमें से 24 व्यक्ति पाॅजिटीव पाए गए है। उनके समुचित उपचार के लिए उन्हें चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। इसी तरह रेल्वे स्टेशन में बाहर से आ रहें लोगों का भी कोविड-19 का परीक्षण किया जा रहा है। अब तक महासमुन्द, बागबाहरा, कोमाखान एवं भीमखोज के रेलवे स्टेशन पर 483 व्यक्ति बाहर से आए थे। इनमें 46 व्यक्तियों ने 72 घंटे की निगेटिव रिपोर्ट प्रस्तुत किया तथा 215 संदेहास्पद लोगों की कोविड-19 की जाॅच की गई।

जिसमें से 19 पाॅजिटीव मिलें। जिले के शहरी एवं बड़े ग्रामीण क्षेत्रों पर भी माॅस्क नहीं पहननें वालों पर कार्यवाही करते हुए समझाईश दी जा रही है। अब तक कुल 8446 लोगों पर कार्यवाही की गई है।  इनमें शहरी क्षेत्र में 7032 तथा ग्रामीण क्षेत्र में 1414 व्यक्ति शामिल है। इसके अलावा सभी विकासखण्डों के ग्रामीण क्षेत्रों में 560 जन जागरूकता दल का गठन किया गया है तथा जिसके माध्यम से सामाजिक दूरी का पालन करते हुए कोविड-19 के संक्रमण के बचाव के उपाय एवं रोकथाम के बारें में अभियान चलाया जा रहा है। इसी तरह जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में 6118 एवं शहरी क्षेत्रों में 635 दीवार लेखन का कार्य किया गया है।

इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले में कोविड-19 के प्रारम्भिक संक्रमण, लक्षण से बचाव के उपाय के लिए 2225 मितानिनों की दवा पेटी में आवश्यतानुरूप 6151 दवा पैकेट उपलब्ध कराई गई है। कोविड-19 के जाॅच के लिए थर्मल स्कैनर एवं आक्सीमीटर भी ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में उपलब्ध कराए गए है। इनमें ग्रामीण क्षेत्र में थर्मल स्कैनर 388 एवं आक्सीमीटर 402 उपलब्ध कराए गए है। इसी तरह शहरी क्षेत्रों में थर्मल स्कैनर 105 एवं आक्सीमीटर 105 उपलब्ध कराए गए है।