देश में ऑक्सीजन के लिए मचा हाहाकार, PM मोदी ने संभाला मोर्चा, बोलें- बिना रुकावट सभी प्रदेशों को हो आपूर्ति

नई दिल्ली। PM मोदी ने देश में ऑक्सीजन (Oxygen) की उपलब्धता और इसकी आपूर्ति को लेकर गुरुवार को एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की और इस दौरान ऑक्सीजन (Oxygen) की उपलब्धता बढ़ाए जाने के रास्तों और विकल्पों पर चर्चा की। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से जारी एक बयान के अनुसार, इस बैठक में प्रधानमंत्री ने ऑक्सीजन (Oxygen) का उत्पादन बढ़ाने, उसके वितरण की गति तेज करने और स्वास्थ्य सुविधाओं तक उसकी पहुंच सुनिश्चित करने के लिए तेज गति से काम करने की आवश्यकता पर बल दिया। इस दौरान अधिकारियों ने पिछले कुछ सप्ताहों में ऑक्सीन की आपूर्ति बेहतर करने की दिशा में उठाए गए कदमों से प्रधानमंत्री को अवगत कराया।

बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री को बताया गया कि राज्यों की ऑक्सीजन (Oxygen) की मांग और उसके अनुसार उसकी पर्याप्त आपूर्ति के लिए सभी राज्य सरकारों के साथ सहयोग किया जा रहा है। प्रधानमंत्री को यह भी बताया गया कि कैसे राज्यों की ऑक्सीजन (Oxygen) की मांग तेजी से बढ़ रही है। बयान के अनुसार,  20 राज्यों की ओर से प्रतिदिन 6785 मीट्रिक टन तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन (Oxygen) की वर्तमान मांग के मुकाबले 21 अप्रैल से उन्हें 6822 मीट्रिक टन प्रतिदिन आवंटित की जा रही है।

भारत में कोरोना ने तोड़ा विश्व रिकार्ड, 3.16 लाख संक्रमित, 2102 मरीजों की मौत

उपलब्धता 3300 मीट्रिक टन बढ़ी

बैठक के दौरान बताया गया कि पिछले कुछ दिनों में तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन (Oxygen) की उपलब्धता 3300 मीट्रिक टन प्रतिदिन बढ़ी है। इसमें निजी और सरकारी इस्पात संयंत्रों, उद्योगों, ऑक्सीजन उत्पादकर्ताओं का योगदान शामिल है। गैर-आवश्यक उद्योगों की ऑक्सीजन आपूर्ति पर रोक लगाकर भी ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ाई गई है।

जमाखोरों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने के निर्देश

प्रधानमंत्री ने राज्यों को निर्बाध और बगैर किसी परेशानी के ऑक्सीजन (Oxygen) की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए।प्रधानमंत्री ने ऑक्सीजन (Oxygen) की जमाखोरी करने वालों के खिलाफ राज्यों को कठोर कार्रवाई करने को भी कहा। बैठक में कैबिनेट सचिव, प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव, गृह सचिव, स्वास्थ्य सहित अन्य मंत्रालयों और विभागों तथा नीति आयोग के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

भोजन में ये शामिल करें.. जीवनभर नहीं होगी शरीर में ऑक्सीजन की कमी

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब

देशभर में कोरोना के रोज बढ़ते मामले और साथ में दवाओं-ऑक्सीजन (Oxygen) के लिए मचे हाहाकार के बीच सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को लेकर सख्ती दिखाई है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में स्वतः संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर यह पूछा है कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए उनकी क्या योजना है। हाई कोर्ट में कोरोना से जुड़े मामलों की सुनवाई को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह नोटिस जारी किया है।

मौजूदा स्थिति को आपातकाल के समान बताया

मौजूदा स्थिति को ‘राष्ट्रीय आपातकाल’ के समान बताते हुए चीफ जस्टिस एसए बोबडे की खंडपीठ ने सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से ऑक्सीजन (Oxygen) और दवाओं की सप्लाई और टीकाकरण को लेकर भी जवाब मांगा है। कोर्ट ने केंद्र से कहा है कि वह कोरोना से लड़ने के लिए अपनी राष्ट्रीय स्तर पर तैयार की योजना बताए।

भारत में कोरोना ने तोड़ा विश्व रिकार्ड, 3.16 लाख संक्रमित, 2102 मरीजों की मौत

संक्रमित होने बाद मरीज को अस्पताल में कब होना चाहिए भर्ती? जानें डॉक्टर की सलाह, कुछ मिनट वॉक कर लगाए पता

कोविड के ट्रिपल म्यूटेंट ने बढ़ाई चिंता, भारत के लिए बन सकती है अगली चुनौती, तीन प्रदेशों में मिले केस

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home             

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123