चक्रवाती तूफान Tauktae का खतरा, इन प्रदेशों में तैनात की गई NDRF की 24 टीमें, केरल में भारी बारिश शुरू

साल 2021 का सबसे पहला चक्रवात साइक्लोन (Cyclone) अरब सागर में आने की संभावनाएं हैं. इसके कारण दक्षिण के राज्यों पर चक्रवाती तूफान Tauktae को लेकर चेतावनी जारी की गई है. राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल के महानिदेशक SN प्रधान ने बताया कि चक्रवाती तूफान Tauktae के कारण  केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात और महाराष्ट्र में 24 टीमें यहां पहले से ही तैनात कर दी गई हैं. साथ ही 29 टीमों को यहा स्टैंडबाय पर रखा गया है.

केरल के तीन जिलों तिरुवनंतपुरम, कोल्लम,पत्तनंतिट्टा में जो रेड अलर्ट जारी किया गया था उसे अब हटा दिया गया है. इसे हटाकर येलो और ग्रीन कर दिया गया है. वहीं दीसरी तरफ अलाप्पुझा, कोट्टायम, एर्नाकुलम, इडुक्की, त्रिशूर, मलप्पुरम, पलक्कड़, कोझीकोड, वायनाड में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है.

अच्छी खबर: किसानों के खाते में आया 2000 रुपए, ऐसे करें चेक आपके खाते में आया कि नहीं

केरल कई जगह भारी बारिश

इसी के साथ केरल के कुछ हिस्सों में बारिश के कारण समुद्र का पानी रिहायशी इलाकों में आने लगा है. समुद्र किनारे स्थित गावों में समुद्र का पानी रोकने के लिए बनी दीवारें टूट गई है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने गुरुवार को कहा था कि दक्षिण-पूर्व अरब सागर और इससे सटे लक्षद्वीप क्षेत्र में आज एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है. अपनी रिपोर्ट में, मौसम विभाग ने आगे कहा कि निम्न-दबाव वाला क्षेत्र शनिवार सुबह तक उसी क्षेत्र में एक डिप्रेशन बनाएगा और उससे अगले 24 घंटों के दौरान एक चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा.

इन प्रदेशों में तूफान के आने की संभावना

बतादें कि मौसम विभाग ने अगले तीन से चार दिनों में गुजरात, गोवा और महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में साइक्लोन तौकते (Tauktae) आने की संभावना है. इतना ही नहीं 17 से 18 मई को गुजरात में तबाही मचा सकता है. इन इलाकों में मछुआरों को तटीय इलाकों में जाने से मना किया गया है.