ममता पर अब तक तीन ‘हमले’ जिसने गलियों से राजनीति के उच्च शीर्ष तक पहुंचाया, अब ये कथित चौथी हमला

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी को गुरुवार को कथित हमले से नंदीग्राम के बिरुलिया गांव में घायल हो गईं थीं। CM ममता बनर्जी ने इसे हमला बताया और आरोप लगाया कि साजिश के तहत उन्हें चोट पहुंचाई गई। ममता Mamata के इस आरोप ने पश्चिम बंगाल के चुनावी माहौल को ही बदल दी और चुनाव में एक नया रंग आ गया है।

इस कथित हमले को विपक्ष के लोग ममता की  इस घटना को नौटंकी बता रहे हैं। वहीं ममता को समर्थकों की पूरी सहानुभूति मिल रही है। ये जान लीजिए कि CM ममता का हमलों से नाता नया नहीं है। आज हम बताने जा रहे हैं उनके कैरियर के तीन ऐसे हमने जो जिसने गलियों से ममता बनर्जी से सत्ता के शीर्ष तक पहुंचाया। यहां तक TMC पार्टी का प्रमुख बना दिया।

तृणमूल कांग्रेस दल (TMC) की संस्थापक और पश्चिम बंगाल की पहली महिला CM ममता बनर्जी ने अपने राजनीतिक करियर का प्रारंभ कॉलेज के दिनों में ही कांग्रेस की सदस्यता प्राप्त कर की थीं। साल 1976 से 1980 तक वह प्रदेश महिला कांग्रेस की सचिव पद पर आसीन रहीं।

ममता ने 1980 और 1990 के दशक में युवा कांग्रेस नेता के रूप में सत्तारूढ़ मार्क्सवादियों के खिलाफ सड़क से परिवर्तन की लड़ाई शुरू की फिर पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की औद्योगिक नीतियों के खिलाफ उनके संघर्ष ने उन्हें तृणमूल कांग्रेस (TMC) प्रमुख के रूप में खड़ा कर दिया। इस दौरान भी उन्होंने विरोधियों पर ‘शारीरिक हमले’ का आरोप लगाया था। इन्हीं हमलों से उनके राजनीति कैरियर को बल मिला और वे बंगाल की पहली महिला CM और TMC सुप्रीमो बनीं।

जानिए सिलसिलेवार हमले की स्टोरी

पहला हमला: 

16 अगस्त, 1990 को, जब ममता Mamata बनर्जी दक्षिण कोलकाता के हाजरा में एक युवा कांग्रेस आंदोलन का नेतृत्व करने वाली थीं, उस समय बंगाल में माकपा के युवा कार्यकर्ता लालू आलम द्वारा उन पर हमले की खबर से हड़कंप मच गया था। उस वक्त ममता Mamata के सिर पर पट्टी बंधी हुई तस्वीर मीडिया की सुर्खियों थी, और खबर बनी थी कि इस तरह के हमले से ममता Mamata को अपंग करने या उनकी मर्डर करने की साजिश रची गई है। इस खबर और ममता Mamata की तस्वीर ने राजनीतिक गलियारों की परिस्थिति ही बदल दी थी।

इसके बाद 1984 में जादवपुर लोकसभा चुनाव में CPI (M) के दिग्गज नेता सोमनाथ चटर्जी को हराकर ममता बनर्जी (Mamata Banerjee)पहली बार राष्ट्रीय राजनीति में आईं। और राजीव गांधी की युवा नेताओं की टीम के सदस्य के रूप में राष्ट्रीय राजनीति की शुरुआत की। उस घटना के 19 साल बाद, 2019 में आलम को अदालत ने आरोपों से बरी कर दिया था।

बंगाल लाइव: पश्चिम बंगाल में सारे मुद्दे दरकिनार अब ममता दीदी की चोट पर सबकी नजर

दूसरा हमला:

अक्तूबर 1998 में ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) पर फिर एक बार हमले की खबर जंगल में आग की तरह फैल गई। उस वक्त कोलकाता की एक अदालत के एक आदेश पर दक्षिण कोलकाता के गोलपार्क में बेदी भवन की जमीन पर बसे लगभग 70 परिवारों को बाहर निकालने के जब एक विशाल पुलिस बल वहां पहुंचा था, तो वहां उन्होंने बनर्जी और उनके समर्थकों को पाया। ममता (Mamata Banerjee) ने पुलिस से कहा कि अदालत का जो आदेश है उसके बारे में वह वहां बसे लोगों को बताएं, इस पर पुलिस से उनकी झड़प हो गई।

इसके बाद ममता (Mamata Banerjee) ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उनके साथ मारपीट की। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि इस दौरान उन्हें किसी ने दांत से काटा और उनकी साड़ी फाड़ दी। इस आरोप के ठीक एक घंटे के भीतर, बंगाल के दूरदराज के हिस्सों में लोगों ने अफवाहें सुनीं कि ममता पुलिस के साथ झड़प में मारी गईं। इसके बाद रेलवे ट्रैक और राष्ट्रीय राजमार्ग घंटों तक अवरुद्ध रहे। कई जगहों पर तोड़फोड़ हुई, भाजपा कार्यकर्ता, जो उस समय टीएमसी के सहयोगी थे, उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया गया।

तीसरा हमला:

तीसरी घटना, जो बंगाल विधानसभा पर एक दाग छोड़ गई, 30 नवंबर 2006 को हुई। बनर्जी, तब सांसद थीं और उन्होंने लेफ्ट फ्रंट सरकार द्वारा किसानों के 990 एकड़ खेत को टाटा मोटर्स को सौंपने के फैसले के विरोध में कोलकाता से हुगली जिले के सिंगूर तक पैदल मार्च निकाला था। इस दौरान राजमार्ग पर जब पुलिस द्वारा कथित तौर से उन्हें रोका गया था, तो वह कोलकाता लौट आई थीं और सीधे विधानसभा भवन के लिए रवाना हुई थीं।

बनर्जी (Mamata Banerjee) ने टीएमसी विधायकों के सामने आरोप लगाया था कि उनके साथ कुछ पुलिसकर्मियों ने मारपीट की। इसके बाद TMC विधायकों ने विधानसभा में तोड़फोड़ की थी। टीएमसी कार्यकर्ताओं ने यातायात को अवरुद्ध और दुकानों को बंद करवा दिया। उसके बाद उनकी पार्टी ने 12 घंटे तक बंगाल बंद का आह्वान किया था।

हमसे जुड़िए…

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

9617341438, 7879592500,  7804033123

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

Followthislink WhatsApp

https://chat.whatsapp.com/GifNpp6MKWgCY9B5vi7xNe

Leave a Comment