कोमाखान

विकास यात्रा जनता के प्रति जवाबदेही की जीती-जागती मिसाल : डॉ. रमन सिंह

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रविवार की सुबह आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से प्रसारित अपनी मासिक रेडियोवार्ता ’रमन के गोठ’ की 33वीं कड़ी में प्रदेश व्यापी विकास यात्रा का विशेष रूप से उल्लेख किया। उन्होंने कहा-विकास यात्रा जनता के प्रति सरकार की जवाबदेही की जीती-जागती मिसाल है।

  • मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता का प्रसारण राज्य के सभी आकाशवाणी केन्द्रों और कई टेलीविजन तथा एफ.एम. समाचार चैनलों द्वारा किया गया।
  • डॉ. रमन सिंह ने रेडियो श्रोताओं से कहा-एक जमाना था, जब लोग चुनाव होने के बाद नेता, मंत्री और मुख्यमंत्री आदि को खोजा करते थे।
  • चुनाव जीतने वाला लौट के अपने मतदाताओं से भी नहीं मिलता था, लेकिन जबसे मैंने छत्तीसगढ़ में सरकार की बागडोर संभाली, तब से मेरा बड़ा सिद्धांत था-जनता से निकटता और जवाबदेही।
  • मुख्यमंत्री निवास में जनदर्शन, ग्राम सुराज अभियान, नगर सुराज अभियान, किसान महोत्सव, बोनस तिहार जैसे अनेक तरीकों से मैंने और मेरी सरकार ने ज्यादा से ज्यादा समय जनता के बीच गुजारा।
  • मैंने तय किया था कि मुख्यमंत्री निवास के दरवाजे हमेशा जनता के लिए खुले रहेंगे और मुझे यह कहते हुए खुशी है कि यह सब करने में हम सफल हुए।
  • मैंने यह तय किया कि हम जो कहेंगे वो करेंगे और उसकी पूरी जिम्मेदारी लेंगे। हमने जनता से पूछकर जनता की उम्मीदों और आकांक्षाओं को जानकर और समझकर विकास के काम किए। इसलिए जब हमारा कार्यकाल पूरा होने लगता है, तो हम जनता का सामने करने का साहस रखते हैं। विकास यात्रा इसी जवाबदेही की एक जीती-जागती मिसाल है।

इस वजह से की दंतेवाड़ा से विकास यात्रा की शुरूआत

  • मुख्यमंत्री ने विकास यात्रा की शुरूआत दंतेवाड़ा से करने के कारणों पर प्रकाश डालते हुए कहा-छत्तीसगढ़ में दक्षिण बस्तर के विकास को सर्वाधिक प्राथमिकता देने की शुरू से ही हमारी रणनीति है।
  • पहले सघन वनों से घिरे और दुर्गम अंचलों में अनेक कारणों से विकास की किरणें नहीं पहुंच पायी थी, जिसका लाभ स्वार्थी और विकास विरोधी तत्वों ने उठाया था।
  • हमने विगत 14 वर्षों में स्पष्ट नीति, स्पष्ट नजरिए, स्पष्ट योजनाओं और स्पष्ट लक्ष्यों के साथ बस्तर को ऐसे सम्पर्कों से जोड़ा है कि यह अंचल ’टापू’ न रह जाए। आज बस्तर न सिर्फ छत्तीसगढ़ के अन्य शहरों से बल्कि पड़ोसी राज्यों से भी शानदार सड़क मार्गों से और बारहमासी बड़े पुलों से जुड़ गया है।
  • बस्तर को रेल मार्ग से जोड़ने और इसका लाभ जनता को दिलाने के प्रयास सफल हो रहे हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 14 अप्रैल को बीजापुर जिले के प्रवास के दौरान भानुप्रतापपुर से दुर्ग तक रेल सेवा का शुभारंभ किया।
  • इस तरह गुदुम से भानुप्रतापपुर तक रेल लाइन और रेल्वे स्टेशन की शुरूआत इस बात का सुखद संकेत है कि अगले तीन-चार वर्ष में दल्लीराजहरा-रावघाट-जगदलपुर रेल नेटवर्क का निर्माण पूरा हो जाएगा। इतना ही नहीं, बल्कि बस्तर को नियमित विमान सेवाओं से जोड़ने के लिए जगदलपुर हवाई अड्डे का विकास पूरा हो गया है।
  • बस्तर को अब कोई भी ताकत नहीं बना पाएगी सम्पर्क विहीन

  • उन्होंने कहा-बस्तर संभाग के सभी सात जिलों में इंटरनेट कनेक्टिविटी के लिए ’बस्तर नेट’ परियोजना का काम भी पूर्णता की ओर है, जिसके प्रथम चरण का उद्घाटन प्रधानमंत्री द्वारा किया गया था।
  • यह 836 किलोमीटर का रिंग टाइप ऑप्टिकल फाईबर नेटवर्क इस बात का प्रतीक है कि बस्तर को अब कोई भी ताकत कभी सम्पर्क विहीन नहीं बना पाएगी।
  • सड़क, रेल और वायु मार्ग के अलावा यह कनेक्टिविटी बस्तर को ज्ञान और रोजगार के नये अवसरों से भी सम्पन्न कर देगी।
  • बस्तर अब ’टापू’ नहीं रहा, बल्कि यह हर तरह से और हर तरफ से जुड़ गया है, जिससे निश्चित तौर पर बस्तर की तकदीर और तस्वीर बदल जाएगी।
  • यही वजह है कि मैंने विकास यात्रा की शुरूआत के लिए दंतेवाड़ा को चुना है, ताकि बस्तर को लेकर सारे भ्रांतियों का समापन हो जाए और दुनिया यह जान सके कि बस्तर की विकास यात्रा रफ्तार पकड़ चुकी है।

छग के 45 लाख परिवारों को मिलेगी स्वास्थ्य बीमा सुरक्षा

  • उन्होंने ’रमन के गोठ’ में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की आयुष्मान भारत योजना का उल्लेख करते हुए कहा-इस योजना के तहत छत्तीसगढ़ के लगभग 45 लाख परिवारों को पांच लाख रुपए तक स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिलेगा।
  • छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राज्य के 56 लाख परिवारों को वार्षिक 50 हजार रूपए तक निःशुल्क इलाज की सुविधा दी गई है, जिसमें वरिष्ठ नागरिकों को और पत्रकारों को 80 हजार रूपए तक इसकी सुविधा मिलेगी।
  • स्किल केपिटल और विकासगड़ी के रूप में बनी जशपुर की पहचान

  • उन्होंने रेडियो श्रोताओं को यह भी बताया कि राज्य के उत्तरी अंचल या सरगुजा संभाग को इस बात का श्रेय जाता है कि वहां से नक्सलवाद के खात्मे की शुरूआत हुई।
  • बहुत विस्तृत इस संभाग में प्रशासनिक कसावट के लिए दो नये जिलों-बलरामपुर-रामानुजगंज और सूरजपुर का गठन किया गया।
  • सरगुजा में विश्वविद्यालय, इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज, लाइवलीहुड कॉलेज आदि के माध्यम से शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं सहित रोजगार सृजन में तेजी आयी है।
  • डॉ. रमन सिंह ने कहा-इस संभाग के जशपुर जिले में पहले मानव तस्करी बहुत बड़े पैमाने पर होती थी।
  • लोग काम की तलाश में दूसरे प्रदेशों में जाते थे, या उन्हें ले जाया जाता था, लेकिन आज जशपुर जिला स्किल केपिटल (कौशल राजधानी) के रूप में और ’विकासगड़ी’ के रूप में अपनी नई पहचान बनाने में सफल हुआ है, जहां विगत तीन वर्ष में 25 हजार से ज्यादा युवाओं को कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण दिया गया और इनमें से 20 हजार लोगों के प्लेसमेंट में भी सफलता मिली।
  • उन्होंने दावे के साथ कहा कि हमारा छत्तीसगढ़ यदि ’विकासगढ़’ बना है तो जशपुर जिला ’विकासगड़ी’। इसमें किसी को भी कोई संदेह नहीं होना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button