धमतरी: ग्रामीणों ने SDM दफ्तर का गेट तोड़ा, दफ्तर में घुसकर किया हंगामा..SDM पर महिलाओं के साथ भी दुर्व्यवहार

धमतरी SDM दफ्तर का घेराव। नगरी के ग्रामीणों का गुस्सा उस समय बेकाबू हो गया, जब  उनकी समस्याओं को लेकर प्रशासन की ओर से कोई समाधान होते नहीं दिखा। नाराज वनवासियों ने SDM कार्यालय पर में घुसकर जमकर हंगामा किया। यहां तक गेट तोड़ डाले। एसडीएम साहब दफ्तर के भीतर ही मौजूद थे।

बतादें, वनग्राम संघर्ष समिति द्वारा समस्याओं को लेकर धरना-प्रदर्शन और रैली का आयोजन नगरी ब्लाक मुख्यालय में किया गया था. समिति के बैनर तले आदिवासी समाज के सैकड़ों लोग दंतेश्वरी मंदिर के पास एकत्रित हुए और रैली निकालकर रावणभाटा मैदान पहुंचे. यहां सभा के बाद राष्ट्रपति, PM, राज्यपाल और CM के नाम SDM नगरी को ज्ञापन सौंपने का कार्यक्रम था,तय कार्यक्रम के मुताबिक प्रदर्शनकारी SDM कार्यालय पहुंचे थे, इसी बीच भीड़ में मौजूद लोग बहुत उग्र हो गए और देखते ही देखते SDM दफ्तर के चैनल गेट को तोड़ दिया, गेट तोड़ने के बाद काफी लोग दफ्तर के भीतर पहुंच गए, करीब एक घंटे तक SDM दफ्तर में हंगामा चलता रहा।

SDM ने महिलाओं के साथ भी दुर्व्यवहार करने का लगा आरोप

इस दौरान SDM जितेंद्र कुर्रे अंदर ही मौजूद थे. मौके पर उपस्थित Police बल द्वारा काफी समझाईश के बाद आखिरकार मामला शांत हुआ. जनपद अध्यक्ष दिनेश्वरी नेताम और वन ग्राम संघर्ष समिति के संयोजक मयाराम नागवंशी ने बताया कि जिले के 111 वनग्राम को वर्ष 2013 में राजस्व ग्राम में तब्दील किया गया है, लेकिन आज तक इन गांवों को सुविधाएं नहीं मिल पाई है ना ही नामांतरण का कार्य हो पा रहा है ना ही बंदोबस्त दुरुस्त हो पा रहा है, और भी कई तरह की समस्याएं इन वन ग्रामों में हैं.

बाप नंबरी बेटा दस नंबरी के तर्ज पर रायपुर में 2 लाख रुपए का लगाया चुना

इन्हीं समस्याओं को लेकर आज शांतिपूर्वक धरना प्रदर्शन वन ग्राम संघर्ष समिति के बैनर तले किया गया था, रैली व सभा के बाद जब वे SDM दफ्तर ज्ञापन सौंपने पहुंचे थे तो SDM ने सिर्फ तीन लोगों को अंदर आने की अनुमति दी, जब तीन लोग अंदर गए तो उनके साथ रुखा बर्ताव करते हुए दुर्व्यवहार भी किया गया, बाहर आकर इसकी जानकारी दी गई तो कुछ महिलाएं अपनी बात रखने SDM के पास गए, लेकिन SDM ने महिलाओं के साथ भी दुर्व्यवहार किया.

SDM ने कहा नहीं किया गया दुर्व्यवहार

इस बात से प्रदर्शन कर रहे लोग नाराज हो गए और उन्होंने थोड़ा उग्र प्रदर्शन किया है. समिति का कहना है कि जो अफसर काम करने लायक नहीं है वैसे अधिकारी की उन्हें जरूरत नहीं है. इधर एसडीएम जितेंद्र कुर्रे का कहना है कि उनके द्वारा बकायदा गेट के पास जाकर ज्ञापन लिया गया और पावती भी दिया गया. प्रदर्शनकारियों को बताया गया कि उनकी मांग शासन स्तर का है, मांगपत्र जल्द शासन के पास भेज दिया जाएगा. SDM का कहना है कि उन्होंने किसी के साथ भी दुर्व्यवहार नहीं किया है, प्रदर्शनकारी उग्र क्यों हुए यह उनकी समझ से परे है. उन्होंने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने चैनल गेट में तोड़फोड़ किया है, जिसकी सूचना भी अपने उच्च अधिकारी को दे रहे हैं.

Leave a Comment