हॉकी वर्ल्ड कप 2023 में भारत ने गुरुवार को वेल्स की टीम को हरा दिया।

जीत के बावजूद टीम के कप्तान हरमनप्रीत सिंह भारत के प्रदर्शन के खुश नजर नहीं आए। हरमनप्रीत सिंह ने स्वीकार किया

कि उन्होंने खराब प्रदर्शन किया और वेल्स के खिलाफ अपने मैच में बेहतर प्रदर्शन कर सकते थे, जहां उन्होंने 4-2 से जीत हासिल की

लेकिन अपने पूल में शीर्ष स्थान हासिल करने में विफल रहे और सीधे FIH मेन्स वर्ल्ड के क्वार्टर फाइनल के लिए क्वालीफाई नहीं कर सके।

भारत अगर रविवार को यहां क्रॉसओवर मैच में न्यूजीलैंड को हरा देता है तो वह क्वार्टर फाइनल में जगह बना सकता है। हरमनप्रीत ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा,

हम इस जीत से संतुष्ट नहीं हैं। यह हमारा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं था और हम और बेहतर कर सकते थे।"

क्वार्टर फाइनल के लिए सीधे क्वालीफाई करने के लिए आठ गोल के अंतर से जीत की जरूरत थी

भारत उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाया क्योंकि वे पूल डी में इंग्लैंड के बाद दूसरे स्थान पर रहे।

भारत और इंग्लैंड दोनों ने दो मैच जीतकर और एक ड्रा खेलकर सात-सात अंकों के

साथ अपने ग्रुप मुकाबले खत्म किए लेकिन पूल डी में बेहतर गोल अंतर के आधार पर यूरोपीय टीम शीर्ष पर रही।

इंग्लैंड, जिसने यहां पहले पूल डी मैच में स्पेन को 4-0 से हराया था, के पास भारत के मुकाबले प्लस नौ का बेहतर गोल अंतर है।

जब दो टीमें समान अंकों पर होती हैं और समान संख्या में मैच जीतती हैं, तो रैंकिंग गोल अंतर से तय होती है।

पेनल्टी कार्नर से अपना पहला गोल करने वाले कप्तान ने कहा, "हमने मौके बनाए लेकिन हम ज्यादा गोल नहीं कर सके।

हमें न्यूजीलैंड के खिलाफ बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है।"

मुख्य कोच ग्राहम रीड ने फारवर्ड द्वारा फिनिशिंग की कमी पर अफसोस जताया। रीड ने कहा, "हमने टुकड़ों में अच्छा खेला और वेल्स ने अच्छा बचाव किया।

वे (वेल्स) एक अच्छी टीम हैं और अगर आप उन्हें मौका देते हैं, तो वे स्कोर करेंगे। इंग्लैंड ने भी हमारा काम कठिन बना दिया था।

मुझे लगा कि हमने अभी भी बहुत सारे मौके बनाए हैं लेकिन फिनिशिंग में अभी भी कमी थी जो सबसे निराशाजनक हिस्सा था।

वेल्स ने अच्छी तरह से बचाव किया। इस विश्व कप में स्वर्ण पदक के लिए कोई आसान रास्ता नहीं है और हर टीम अलग है। हम सकारात्मक थे।"