नोरा फतेही जब छोटी बच्ची थीं तभी से वो हिंदी सिनेमा के प्रति आकर्षित हैं और तभी उन्होंने तय कर लिया था

वो बड़ी होकर क्या बनेंगीं लेकिन परिवार ने भी उनके सपनों को उसी पल कुचल दिया था.

डांस की शौकीन नोरा जब भी समय मिलता हिंदी गानों पर खूब थिरकती

पकड़े जाने पर पिटाई भी खातीं लेकिन अपने जुनून का साथ उन्होंने कभी नहीं छोड़ा.

आखिरकार हिम्मत जुटाकर उन्होंने वो करने की ठान ली जो वो हमेशा से करना चाहती थीं

इसमें उनका परिवार उनके साथ नहीं था लेकिन फिर भी नोरा ने साहत जुटाया. और उन्होंने डांस क्लास ज्वाइन कर लीं.

बेहतरीन डांस सीखने के बाद नोरा ने भारत आने का मन बनाया लेकिन यहां आने के लिए उनकी जेब में उतने पैसे नहीं थे

फिर भी महज पांच हजार रुपए लेकर वो भारत आ गईं.

अपनी किस्मत को आजमाने पर जैसा वो सोचकर आई थीं वैसा इंडिया उन्हें नहीं दिखा

एयरपोर्ट पर आते ही वो समझ गईं कि ये सब इतना आसान नहीं होने वाला.

उनका सामान, पासपोर्ट चोरी हो गया था. जिस कंपनी के सहारे वो भारत आई थीं

खैर इन सबसे इतर एक और समस्या थी और वो थी नोरा को हिंदी ना आना.

इस वजह से वो कहीं ऑडिशन भी नहीं दे पातीं और अगर देतीं तो लोग हंसने लगते

पर उन सभी लोगों को उन्होंने मुंह तोड़ जवाब दिया अपनी सक्सेस से जो उन्हें 2018 के बाद.