2023 का एकदिवसीय विश्व कप कुछ महीने दूर है। बीसीसीआई ने कथित तौर पर 20 खिलाड़ियों को शॉर्टलिस्ट किया है,

जिनमें से 15 खिलाड़ियों को मार्की इवेंट लिए चुना जाएगा। हालांकि, बोर्ड ने इस पूल के अलावा भी

खिलाड़ियों के लिए दरवाजा खुला छोड़ रखा है, बशर्ते घरेलू सर्किट में उसने असाधारण प्रदर्शन किया हो।

इस बीच पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा है कि विदेशी कमेंटेटर्स पर ध्यान नहीं देना चाहिए।

बीसीसीआई ने जिन 20 खिलाड़ियों को शॉर्टलिस्ट किया है, उनकी सूची को सार्वजनिक नहीं किया है।

ऐसे में कुछ खिलाड़ियों की आलोचना हुई और कुछ की सराहना की गई है, जो अभी तक टीम से बाहर हैं।

महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने भारतीय मीडिया को सुझाव दिया है

कि वे विदेशी कमेंटेटरों से यह न पूछें कि वे एकदिवसीय विश्व कप टीम में किसे जगह देंगे।

उन्होंने अपने तर्क का समर्थन करते हुए दावा किया कि कैसे आईपीएल 2019 के दौरान कमेंटेटरों द्वारा एक खिलाड़ी का मजाक उड़ाया गया

वह एक योग्य उम्मीदवार से आगे भारत की विश्व कप टीम में जगह पा गए। इसके अलावा,

जिस खिलाड़ी का नाम उन्होंने नहीं लिया, उसका शायद ही इंग्लैंड में टीम इंडिया द्वारा उपयोग किया गया था,

क्योंकि वे सेमीफाइनल में बाहर हो गए थे।

मिड डे को लिखे अपने कॉलम में सुनील गावस्कर ने कहा, "उम्मीद है

हमारा मीडिया विदेशी कमेंटेटरों के पास यह पूछने नहीं जाएगा कि भारत के लिए किसे चुना जाना चाहिए।

यह कभी न भूलें कि ये कमेंटेटर अपने देश के प्रति वफादार हैं

वास्तव में ऐसे नाम सुझा सकते हैं, जिसकी भारत को जरूरत नहीं है।

हमने देखा कि पिछले विश्व कप में क्या हुआ था,

जहां उस सीज़न के आईपीएल के दौरान विदेशी कमेंटेटरों द्वारा एक नए के नाम पर जोर दिया गया था

अंततः उसे चुना गया था और भारत शायद ही उसे एकादश में शामिल कर पाया था।"