विराट कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ तूफानी पारी खेली. उनकी वजह से ही टीम इंडिया मैच जीतने में सफल रही

श्रीलंका के खिलाफ 113 रन की आक्रामक पारी खेलकर जीत की पृष्ठभूमि तैयार करने वाले दिग्गज विराट कोहली ने कहा

वह हर मैच को उस रवैये के साथ खेलते है जैसे कि यह उनका आखिरी मैच हो

श्रीलंका के खिलाफ ताबड़तोड़ पारी खेलने के बाद विराट कोहली ने कहा, 'एक चीज जो मैंने सीखी वह यह कि हताशा आपको कहीं नहीं ले जाती

आपको चीजों को जटिल बनाने की जरूरत नहीं है. मैदान में बिना किसी डर के खेलो

मैं चीजों को पकड़ कर नहीं रख सकता. आपको सही कारणों से खेलना होता है

हर मैच को ऐसे खेलना होता है जैसे कि यह आपका आखिरी हो और बस इसके बारे में खुश रहें

खेल आगे बढ़ता रहेगा. मैं हमेशा के लिए खेलने नहीं जा रहा हूं

मैं एक खुशहाल जगह पर हूं और अपने समय का आनंद ले रहा हूं

पहले वनडे मैच में विराट कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ तूफानी 87 गेंदों में 113 रन बनाए, जिसमें 12 चौके और 1 छक्का लगाया

कोहली का वनडे क्रिकेट में ये 45वां शतक था. उनकी शानदार पारी के लिए उन्हें 'मैन ऑफ द मैच' अवॉर्ड दिया गया

भारत ने श्रीलंका को जीतने के लिए 374 रनों का टारगेट दिया था

जिसे श्रीलंका टीम हासिल नहीं कर पाई और मुकाबला 67 रनों से हार गई.

भारतीय टीम की तरफ से बल्लेबाजों ने कमाल का खेल दिखाया.

रोहित शर्मा और शुभमन गिल ने टीम इंडिया को शानदार शुरुआत दी

इन दोनों ही खिलाड़ियों ने बेहतरीन अर्धशतक लगाए. इसके बाद विराट कोहली ने ताबड़तोड़ अंदाज में शतक लगाया

इन प्लेयर्स की वजह से ही टीम इंडिया बड़े स्कोर तक पहुंचने में कामयाब हो पाई.