विधानसभा बुधवार तक के लिए स्थगित.. गृहमंत्री ने बृहस्पत सिंह की एफआईआर पढ़कर सुनाई तो नाराज हुए TS सिंहदेव, बोले- जब तक सरकार जवाब नहीं देती, वे सदन में नहीं आएंगे!

0
26
गृहमंत्री ने बृहस्पत सिंह
गृहमंत्री ने बृहस्पत सिंह

रायपुर। MLA बृहस्पत सिंह के आरोपों पर विधानसभा (Assembly) की कार्रवाई दूसरे दिन भी बाधित हुई। शून्य काल में गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू (Home Minister Tamradhwaj Sahu) इस मामले में वक्तव्य देने खड़े हुए। उन्होंने एफआईआर की कॉपी पढ़कर सुना दी। इसके बाद विपक्ष भड़क गया कि मुद्दा वह नहीं है, जिस पर वक्तव्य दिया जा रहा है। इस बीच अचानक स्वास्थ्य मंत्री TS  सिंहदेव उठ खड़े हुए। कहा कि अब बहुत हो गया, जब तक सरकार उन पर लगे आरोपों के संदर्भ में जवाब नहीं देती वे सदन में नहीं आएंगे। इसके बाद विधानसभा (Assembly) के बाहर निकल गए। इसके बाद कार्यवाही 5 मिनट के लिए स्थगित कर दी गई।

दरअसल, विधानसभा (Assembly) में MLA बृहस्पत सिंह की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर को पढ़कर गृहमंत्री सुना रहे थे। इस पर विपक्ष ने ऐतराज जताया और हंगामा होने लगा। नेता प्रतिपक्ष समेत पूरे विपक्ष ने सरकार की घेराबंदी कर दी। इस बीच स्वास्थ्य मंत्री TS  सिंहदेव ने कहा, मेरे बारे में और मेरे चरित्र के बारे में यहां सभी जानते हैं। मेरे माता-पिता के व्यवहार और चरित्र से सभी परिचित हैं। उसके बाद भी उन पर ऐसे आरोप लगाए जा रहे हैं। शासन की ओर से जब तक उन पर लगे आरोपों के बारे में कोई स्पष्ट जवाब नहीं आ जाता, उनका इस पवित्र सदन में रहना उचित नहीं है।

हंगामे के बीच कल तक के लिए स्थगित हुई Assembly

स्वास्थ्य मंत्री TS सिंहदेव के बयान के बाद स्थगित हुई विधानसभा की कार्रवाई करीब 20 मिनट बाद दोबारा शुरू हुई। विधानसभा (Assembly) अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने स्थगन प्रस्ताव के लिए भाजपा विधायक बृजमोहन अग्रवाल को आवाज दी। BJP विधायक अपनी सीट से खड़े होकर बृहस्पत सिंह के आरोपों पर सरकार के जवाब की मांग करने लगे। उनका कहना था, मामला गंभीर है। MLA ने मंत्री पर आरोप लगाया है। खुद मंत्री ने शासन से जवाब की मांग की है, इसके बाद भी इसे छोड़ा नहीं जा सकता। विधानसभा (Assembly) अध्यक्ष के बार-बार कहने के बाद भी BJP विधायक ध्यानाकर्षण पर बात करने के लिए तैयार नहीं हुए। उसके बाद सदन की कार्रवाई बुधवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

MLA बृहस्पत स्टोरी का पटाक्षेप: दिन भर हंगामा के बाद,  देर रात प्रदेश प्रभारी PL पुनिया बोलें- मामला खत्म

गृहमंत्री बोले, MLA पर हमला नहीं हुआ

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने विधानसभा (Assembly) को बताया- MLA बृहस्पत सिंह पर हमला नहीं हुआ है। MLA बृहस्पत सिंह 24 जुलाई की रात अम्बिकापुर पहुंचे थे। फॉलो वाहन के पीछे छूट जाने की वजह से वे पायलट वाहन के साथ ही सर्किट हाउस पहुंच गए थे। रात 10 बजे के करीब पीछे हा रहे फॉलो वाहन के साथ संजय पार्क के पास फोर्ड इंडेवर में बैठे कुछ लोगों के साथ साइड देने को लेकर विवाद हुआ। उन लोगों ने गाड़़ी को ओवरटेक कर रोका। ड्राइवर और सुरक्षाकर्मियों को गाली दी और तोड़फोड़ की। MLA  ने इसकी सूचना Police को दी। ड्राइवर की तहरीर पर तुरंत FIR करके सचिन सिंह देव उर्फ वीरभद्र सिंह, सोनू उर्फ संदीप रजक और धन्नू उरांव को गिरफ्तार किया गया।

MLA को जेड श्रेणी की सुरक्षा

गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने बताया, MLA और सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष बृहस्पत सिंह को जेड श्रेणी की सुरक्षा दी गई है। उनको 6 पीएसओ, 3 वॉचर, 1-3 का स्थायी सशस्त्र स्कार्ट दिया गया है। उनके रामानुजगंज स्थित आवास पर 1-1-9 को स्टेटिक गार्ड और रायपुर निवास की सुरक्षा में 1-4 का स्टेटिक गार्ड तैनात किया गया है। इसके अलावा स्थानीय परिस्थितियों और क्षेत्र की संवेदनशीलता के मुताबिक अतिरिक्त Police बल भी उनकी सुरक्षा में लगाया जाता है।

गलतफहमी है, सुलझा लेंगे

संसदीय कार्य मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा- गृह मंत्री का वक्तव्य घटना और MLA बृहस्पत सिंह की सुरक्षा व्यवस्था पर केंद्रित था। यही विधानसभा (Assembly) अध्यक्ष की ओर से निर्देशित हुआ था। गृह विभाग तथ्यों के आधार पर ही जवाब देता है। मुझे लगता है कि स्वास्थ्य मंत्री TS  सिंहदेव को कुछ गलतफहमी हो गई। इसकी वजह से वे सदन छोड़कर चले गए। इस मसले को बातचीत से सुलझा लिया जाएगा।

सोमवार से चल रहा है हंगामा

सोमवार को विपक्ष खासकर BJP ने बृहस्पत सिंह के आरोपों के हवाले से काफी हंगामा किया था। विपक्षी MLA  इस मामले की जांच विधानसभा की समिति से कराने की मांग कर रहे थे। उन्होंने सरकार पर विधायकों की सुरक्षा नहीं कर पाने का आरोप लगाया था। विधानसभा (Assembly) अध्यक्ष ने इस मामले में सरकार को व्यक्तव्य देने को कहा। उसके बाद मामला शांत हुआ था।

इधर मानमुन्नवल का दौर जारी

सदन छोड़कर निकले मंत्री टीएस सिंहदेव अब फिर से विधानसभा पहुंच रहे हैं। फिलहाल विधानसभा के लिए मंत्री टीएस सिंहदेव अपने बंगले से निकल चुके हैं। उन्ही की गाड़ी में शैलेष पांडेय भी बैठे हुए हैं। बंगले से निकले टीएस सिंहदेव ने मीडिया से निकलते वक्त बस इतना ही कहा है, मंत्रिमंडल के कुछ वरीष्ठ साथियों का फोन आया था, उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री उनसे कुछ बात करना चाहते हैं, इसलिए मैं विधानसभा जा रहा हूं।

दरअसल आज बृहस्पति सिंह मामले में मंत्री टीएस सिंहदेव सदन छोड़कर चले गए. सदन से बाहर जाने से पहले उन्होंने भावुक होकर कुछ बातें कही. उन्होंने सदन में कहा कि मैं भी एक इंसान हूं मेरे चरित्र के बारे में सब जानते हैं. शायद कुछ छिपा हुआ है जिसे अब सामने लाने की कोशिश की जा रही है. मैं नहीं समझता हूँ कि मेरी स्थिति ऐसी है कि जब तक शासन की ओर से इस पर स्पष्ट जवाब ना आ जाए मैं इस पवित्र सदन में रहना उचित नहीं समझता. दरअसल पिछले दिनों विधायक बृहस्पति सिंह ने मंत्री टीएस सिंहदेव पर गंभीर आरोप लगाए थे. उन्होंने कहा था कि महाराजा टीएस सिंहदेव उनकी हत्या कराकर मुख्यमंत्री बनना चाहते है. जिसके बाद से ये मामला सुर्खियों में है. वहीं बृहस्पति सिंह मामले में गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने जो वक्तव्य दिया है उसके बाद विपक्षी सदस्यों ने नाराज़गी जताई.