मकर संक्राति पर क्यो खाते हैं तिल लड्‌डू, दान करने से ऐसे दूर होता है कुंडली दोष

हर साल 14 जनवरी को मकर संक्राति मनाया जाता है। सूर्य 30 दिन में राशि बदलते हैं और 6 महीने में उत्‍तरायण-दक्षिणायन होते हैं।  

सूर्य 30 दिन में राशि में गोचर करते हैं और छह माह में उत्‍तरायण-दक्षिणायन होते हैं. जब सूर्य मकर राशि में गोचर करते हैं उसे मकर संक्रांति का महापर्व मनाया जाता है. इस दिन सूर्य उत्‍तरायण होते हैं. इस पर्व को देश के अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग नामों और विभिन्न तरीके से मनाते हैं। इस दिन मकर संक्रांति को दिन तिल-गुड़ खाने के साथ इसका दान देने का बड़ा महत्व है।

बचपन से देखते आ रहे हैं, 14 जनवरी मकर संक्रांति को काले तिल के लड्डू खाने और दान करने की परंपरा चली आ रही है। इस दिन तिल और गुड़ का दान करने का खास वजह भी है. साथ ही इस दिन खिचड़ी भी खाने की परंपरा है.

शनि और सूर्य से है कनेक्‍शन

धर्म और ज्‍योतिष गणना की बात करें तो मकर संक्रांति के पीछे तिल और गुड़ खाने, दान करने का संबंध सूर्यदेव और शनिदेव से है. काले तिल का संबंध शनि से और गुड़ का संबंध सूर्य का है। जब मकर संक्रांति के दिन ये दोनों चीजें खाते हैं और दान करते हैं तो इससे शनि और सूर्य दोनों की कृपा होती है. और कुंडली में जो दोष होता है वह कटमता है। साथ ही जिंदगी में सफलता पाने के लिए इन दोनों ग्रहों का जीवन में हमेशा कृपा होना जरूरी है.

दो दिन बाद इन चार राशियों के जातकों की बदलेगी किस्मत, जाने वह भाग्यशाली  

सूर्य ने दिया था शनि को वरदान

पौराणिक शास्त्रों के मुताबिक, एक बार सूर्य देव (Sun god) ने क्रोध में आकर अपने बेटे शनि देव का घर ‘कुंभ’ जला दिया था. कुंभ राशि के स्‍वामी शनि हैं और वह उनका घर माना जाता है. जब सूर्य देव (Sun god) ने शनि देव के घर जाकर देखा तो काले तिल के अलावा घर में रखी सारी चीजें जलकर खाक हो गईं थीं. तब शनि देव ने अपने पिता सूर्य (Sun god) का स्‍वागत उसी काले तिल से किया.यह देखकर सूर्य प्रसन्‍न हो गए और उन्‍होंने शनि देव को रहने के लिए एक और घर ‘मकर’ दिया. साथ ही वरदान दिया कि जब भी सूर्य (Sun god) मकर राशि में आएंगे, वे उनका घर धन-धान्‍य से भर देंगे. साथ ही इस दौरान जो लोग काले तिल और गुड़ सूर्य देव को अर्पित करेंगे, उन्‍हें सूर्य (Sun god) और शनि दोनों की कृपा से जीवन में खूब तरक्‍की मिलेगी.

https://twitter.com/WebMorcha

 

https://www.facebook.com/webmorcha

 

https://www.instagram.com/webmorcha/

Back to top button