देश/विदेशमहायुद्धमेरा गांव मेरा शहर

मॉस्को में उड़ा विश्व का सबसे डेंजर प्लेन, दुनिया को रूस ने दी चेतावनी

महायुद्ध great war:  यूक्रेन को अपने खतरनाक हथियारों से बर्बाद कर देने वाला रूस अब पश्चिमी देशों को बड़ी चेतावनी देने जा रहा है. वह 9 मई को होने वाली अपनी सालाना विक्ट्री डे परेड में विश्व  के सबसे डेंजर  प्लेन को उतार रहा है.

महायुद्ध great war: बीते 2 महीने से लगातार यूक्रेन पर मिसाइलों और विनाशकारी बमों की बरसात करने वाला रूस अब अमेरिका और नाटो देशों को बड़ी चेतावनी देने जा रहा है. वह 9 मई को होने वाले सालाना विक्ट्री डे में ऐसे प्लेन को उतारने जा रहा है, जिसे दुनिया प्रलयकारी (Doomsday Plane) प्लेन मानती है. इस प्लेन को विक्ट्री डे परेड (Victory Day Parade) में शामिल करने का सीधा अर्थ दुनिया को यह चेतावनी देना है कि वे यूक्रेन युद्ध में टांग न अड़ाएं वर्ना रूस उनसे किसी भी कीमत पर बदला ले सकता है.

विश्व का सबसे डेंजर फाइटर प्लेन

रिपोर्ट के अनुसार रूस के इस प्रलयकारी प्लेन का नाम  Il-80 है. यह रूस का सबसे खतरनाक स्ट्रेटजिक फाइटर जेट प्लेन (Doomsday Plane) है, जिसे न्यूक्लियर वार में दुश्मन का नामोंनिशान खत्म कर देने के उद्देश्य से बनाया गया है. अमेरिका समेत दुनिया के कई देश इस प्लेन को बेहद खतरनाक और मानवता के लिए खतरा मानते हैं.

नेशनल विक्ट्री डे Victory Day Parade में भरेगा उड़ान

रूस का यह रणनीतिक विमान 9 मई को होने वाली नेशनल विक्ट्री डे परेड में मॉस्को के ऊपर उड़ान भरेगा. दो मिग -29 जेट विमान इस महाबलशाली विमान (Doomsday Plane) को एस्कॉर्ट करते हुए चलेंगे. बुधवार को हुई रिहर्सल परेड में इस विनाशकारी विमान को शहर के ऊपर से उड़ते देखा गया. इसके साथ ही यूक्रेन में स्पेशल मिलिट्री ऑपरेशन चला रहे रूसी सैनिकों के समर्थन में 8 मिग-29 SMT विमानों ने Z का आकार बनाते हुए आकाश में उड़ान भरी.

फ्रांस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हुआ भव्य स्वागत देखिए वीडियो

रूस की सेना का प्रतीक बना Z सिंबल

Z का आकार यूक्रेन के खिलाफ युद्ध कर रही रूस का प्रतीक चिन्ह बन गया है. वहां पर सभी रूसी जहाजों, टैंकों और दूसरी गाड़ियों पर यही सिंबल लगा हुआ है. हरेक देश युद्ध के मैदान में आपसी गोलाबारी से बचने के लिए अपने वाहनों पर इस तरह का चिन्ह बना लेता है. रूस ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में Z का सिंबल बनाया है, जो अब रूसी सेना का प्रतीक बन गया है.

नाजी जर्मनी पर जीत की याद में विक्ट्री डे

रूस हर साल 9 मई को नाजी जर्मनी के खिलाफ सेकंड वर्ल्ड वार में सोवियत संघ की जीत पर नेशनल विक्ट्री डे मनाता है. इस साल इसकी 77वीं वर्षगांठ है. रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु ने बुधवार को कहा कि इस बार की परेड में लगभग 11,000 जवान भाग लेंगे. उनके साथ ही 131 प्रकार के हथियार और सैन्य उपकरण के साथ-साथ 77 विमान इस साल रेड स्क्वायर से गुजरेंगे.

28 शहरों में होंगे विक्ट्री डे के कार्यक्रम

राजधानी मॉस्को के अलावा रूस के 28 शहरों में इस बार  सैन्य परेड Victory Day Parade आयोजित की जाएगी. इन परेड में करीब 65,000 जवान, लगभग 2,400 प्रकार के हथियार और सैन्य उपकरणों के साथ-साथ 460 से अधिक फाइटर प्लेन भाग लेंगे

https://twitter.com/WebMorcha

 

https://www.facebook.com/webmorcha

 

https://www.instagram.com/webmorcha/

Related Articles

Back to top button
IND vs BAN: रोहित शर्मा ने पहला वनडे हारने के बाद सुधारी गलती आईपीएल के अगले सीजन में लागू होगा ये अनोखा नियम, अब 11 नहीं इतने खिलाड़ी एक ही मैच में लेंगे हिस्सा ढाका में भारत और बांग्लादेश की टक्कर, ‘करो या मरो’ मैच में उतरेगी टीम इंडिया IND vs BAN: रद्द होगा भारत-बांग्लादेश के बीच दूसरा वनडे Anupamaa Spoiler: कहानी ने मारी पलटी! अनुपमा का होगा किडनैप, डिंपल का ये एक्शन बजाएगा विलेन की बैंड