जेड प्लस सुरक्षा, 18 वाहन, पायलट कार..फिर भी MAMTA पर हमला? BJP ने उठाए सवाल

पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी पर हुए कथित हमले की जांच शुरू हो गई है. इस बीच भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने कई गंभीर सवाल उठाए हैं. BJP ने ममता बनर्जी की सुरक्षा में तैनात ADG स्तर के दो अफसरों विवेक सहाय और ज्ञानवंत सिंह पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है.

हालांकि, CM ममता बनर्जी ने स्थानीय Police अधीक्षक पर आरोप लगाते हुए कहा कि घटना स्थल पर कोई भी स्थानीय Police मौजूद नहीं था. यहां तक कि ममता ने कहा कि जहां वो जा रही हैं, वो लोकल पुलिसकर्मी नहीं रहे हैं. वहीं, बीजेपी ने कहा कि ममता के समर्थन में भीड़ जुटाने के लिए डीएम और SP पुलिस स्टेशन में मीटिंग कर रहे थे.

BJP ने जिन दो IPS अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया है, उसमें एक विवेक सहाय (डायरेक्टर, सुरक्षा) और दूसरे ज्ञानवंत सिंह (एडिशनल डायरेक्टर, सुरक्षा) हैं. दोनों ADG रैंक के अफसर हैं, जबकि पूर्व मिदनापुर के एसपी प्रवीण प्रकाश हैं. इस मामले में चुनाव आयोग ने कल (शुक्रवार) शाम 5 बजे तक रिपोर्ट तलब की है.

हमले पर बीजेपी ने उठाए सवाल

BJP का कहना है कि विवेक सहाय सीएम की सुरक्षा के प्रभारी अधिकारी हैं और ज्ञानवंत सिंह टीम का हिस्सा हैं, चुनावों की घोषणा के बाद दोनों अधिकारियों को ममता की सुरक्षा का जिम्मा दिया गया था, ममता के पास अन्य स्थानीय पुलिस को जाने की अनुमति नहीं है, इससे पहले कि चुनाव आयोग ने डीजीपी वीरेंद्र को हटा दिया था.

TMC नेता पार्थ चटर्जी ने कल कहा था कि वीरेंद्र को उनके पद से हटाए जाने के बाद यह घटना हुई थी. वहीं, बीजेपी ने ममता बनर्जी की सुरक्षा पर सवाल उठाए हैं. बीजेपी का कहना है कि ममता बनर्जी की जेड प्लस सुरक्षा में कुल 18 गाड़ियां रहती हैं, 4 पायलट कार सबसे आगे रहती है. एडवांस सिक्योरिटी कार रहती है, जिसमें DSP स्तर के अधिकारी होते हैं.

यहां पढ़ें: आगरा: कंटेनर में जा घुसी तेज रफ्तार स्कॉर्पियो, 9 लोगों की दर्दनाक मौत

फिर एडवांस पायलट कार होती है, इसमें भी जिला पुलिस के सब इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी होते हैं, फिर पायलट कार जिसमें भी जिला Police के सब इंस्पेक्टर होते हैं, फिर डायरेक्ट ऑफ सिक्योरिटी की गाड़ी रहती है, फिर वीआईपी कार, फिर एस्कॉर्ट 1 और 2, फिर जैमर, फिर जैमर, फिर स्पेयर वीआईपी कार ताकि मुख्यमंत्री की गाड़ी ख़राब हो जाए तो इसका इस्तेमाल करें.

इतनी कड़ी सुरक्षा के बावजूद कैसे ये घटना हुई

BJP का कहना है कि पीछे प्रधान सुरक्षाकर्मी की गाड़ी रहती है, फिर 3 एस्कॉर्ट कार, फिर इंटरसेप्शन की दो गाड़ियां, फिर महिला पुलिस (लेडी कॉन्टिंजेंट), फिर एम्बुलेंस होती है, फिर तीन और सुरक्षाकर्मियों की गाड़ियां, टेल कार, लास्ट में स्पेयर इंटरसेप्शन कार. बीजेपी का कहना है कि इतनी कड़ी सुरक्षा के बावजूद कैसे ये घटना हुई.

इस मामले में केंद्रीय मिनिस्टर मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि एक पुरानी कहावत है कि अजीब लोग हैं, क्या-क्या बातें छिपाते हैं, कहीं पर चोट लगी है, कहीं बताते हैं, चोट उनको लगी है कि नहीं, पैर फिसला है कि नहीं, फिसला है जमीन पर गिरी हैं कि नहीं गिरी हैं, लेकिन ममता बनर्जी की पश्चिम बंगाल में जमीन जरूर खिसक गई है.

मुख्तार अब्बास नकवी के अनुसार, चुनाव आयोग इस पूरे मामले में जांच कर रहा है और सच्चाई सामने आएगी, लेकिन एक बात यह सच है कि यह पुराना और सबसे एक्सपायर फार्मूला है, जिसका उपयोग Mamta बनर्जी की तरफ से किया जा रहा है. इन एक्सपायरी दवाओं से काम नहीं चलता है.

हमसे जुड़िए

https://twitter.com/home

https://www.facebook.com/?ref=tn_tnmn

https://www.facebook.com/webmorcha/?ref=bookmarks

https://webmorcha.com/

https://webmorcha.com/category/my-village-my-city/

9617341438, 7879592500,  7804033123

Leave a Comment