होम

birthday: 22 जनवरी को जन्मे जातकों का कैसा होगा भविष्य?

birthday

birthday: अयोध्या में नवनिर्मित राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा का दिन आज आ ही गया. देशभर के लोगों को आज के दिन का बेसब्री से इंतजार था. (Birthday) 22 जनवरी को राम मंदिर में रामलला विराजित किए जाएंगे. ऐसे में आज का दिन इसलिए चुना गया क्योंकि आज कई शुभ योगों का निर्माण हो रहा है. 22 जनवरी को अभिजीत मुहूर्त बन रहा है, और राम का जन्म भी इसी मुहूर्त में हुआ था.

इसी कारण ऐसा कहा जाता है कि किसी दिन अगर कोई शुभ मुहूर्त नहीं है तो अभिजीत मुहूर्त में कोई भी शुभ काम किया जा सकता है. (Birthday) कहते हैं कि इस समय किया गया काम हमेशा शुभ, सफल और उच्च फल प्रदान करता है. ऐसे मुहूर्त में बच्चे का जन्म जीवन में क्या शुभ फल प्रदान करेगा. चलिए जानते हैं.

ग्रहों की दशा होगी उत्तम

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार आज 22 जनवरी के दिन रामलला की प्रतिमा स्थापित की जाएगी, तब ग्रहों की दशा अति उत्तम होगी. बता दें कि आज 12 से भी ज्यादा शुभ योग  बन रहे हैं. (Birthday) इस दिन अभिजीत मुहूर्त में जन्में बच्चों का भविष्य बेहद उज्जवल और सफल रहने वाला है. जानें इस दिन और कौन से शुभ योगों का निर्माण होगा और इस दिन जन्मे बच्चों पर कैसा प्रभाव पड़ेगा.

ऐसी होगी ग्रहों की स्थिति

ज्योतिष अनुसार 22 जनवरी को मेष लग्न होगा. इस लग्न में बृहस्पति, द्वितीय भाव में चंद्रमा, षष्टम भाव में केतु, नवम भाव में बुध, मंगल और शुक्र, सूर्य दशम भाव में, शनि एकादशी भाव में और राहु द्वादश भाव में स्थित होंगे. बता दें कि ग्रहों की ऐसी स्थिति राजयोग बना रही है.

चामर योग तथा दीर्घायु योग

वैदिक ज्योतिष के अनुसार आज के दिन लग्न तथा अष्टम भाव का स्वामी मंगल नवम भाव में मित्र बृहस्पति की राशि में रहेंगे. इसे एक उच्च स्तरीय राजयोग बताया जा रहा है. (Birthday) वहीं, केंद्र का स्वामी नवम त्रिकोण में चले जाने से चमार और दीर्घायु योग का निर्माण हो रहा है. ज्योतिषियों के अनुसार अगर किसी बच्चे का जन्म इन योगों में हो, तो वे बच्चा धनवान और अच्छी सेहत वाला होता है.  आयु लंबी होती है और बच्चा धार्मिक होता है.

धेनु योग तथा काम योग

धेनु और काम योग को ज्योतिष में शुभ माना गया है. द्वितीय तथा स्पतम भाव का स्वामी शुक्र नवम भाव में लग्नेश के साथ होने से इस योग का निर्माण हो रहा है. (Birthday) बता दें कि इस योग में जन्मे बच्चों को जीवन में कभी भी पैसों की कमी नहीं होती. ऐसा बच्चा दान करने में आगे रहता है. इनकी पत्नी सुंदर, सुशील और धार्मिक स्वभाव की होती है.

शौर्य योग, तपस्वी योग तथा अस्त्र योग

बता दें कि इन शुभ योग में अगर बालक का जन्म होता है, तो बच्चा शूरवीर और पराक्रमी बनता है. (Birthday) पढ़ने-लिखने में बच्चे आगे रहते हैं और लिखने में इनकी खास रूचि होती है.

जलधि योग

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस योग में जन्मे लोग दिखने में सुंदर और आकर्षक होते हैं. समाज में ऊंची प्रतिष्ठा प्राप्त करते हैं. बोल-चाल से किसी को भी प्रभावित कर लेते हैं.

छत्र योग

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस राजयोग में जन्मे लोग जन्म से ही बहुत बुद्धिमान होते हैं. इनका आईक्यू लेवल अच्छा होता है. बताया जाता है कि अल्बर्ट आइंस्टीन की कुंडली में भी इसी राजयोग का निर्माण हो रहा था. निर्णय लेने में ये लोग माहिर होते हैं और भविष्य में लाभ कमाते हैं.

भाग्य योग

बता दें कि इस योग में जो बच्चे जन्म लेते हैं, उन बच्चों पर ईश्वर की कृपा बनी रहती है. बड़े से बड़ा संकट भी ये आराम से पार कर लेते हैं. दयालु प्रवृत्ति के होते हैं. इतना ही नहीं, इन्हें विदेश जाने का कई बार अवसर प्राप्त होता है.

आ रहे श्रीराम …खत्म हुआ इंतजार…84 सेकंड में होगी प्राण प्रतिष्ठा

https://www.facebook.com/webmorcha

ये भी पढ़ें...