होम

जानें कौन है बाबा जिनके सभा में 116 की मौत, यौन शोषण सहित 5 मामला का है आरोपी, अखिलेश से है पुराना नाता

webmorcha ढोगी बाबा

हाथरस। यौन शोषण सहित 5 अन्य गंभीर मामलों का आरोपी सूरज पाल उर्फ बाबा साकार हरि का पुराना राजनीतिक जुड़ाव भी सामने आया है. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव इस बाबा के सत्संग में शामिल होते रहे हैं. बीते साल जनवरी माह में भी अखिलेश बाबा के सत्संग में शामिल हुए थे और बाबा की महिमा का गुणगान में एक पोस्ट शेयर किया था.

अखिलेश यादव जब सूरज पाल उर्फ बाबा साकार हरि के कार्यक्रम में पहुंचे थे तो सोशल मीडिया साइट एक्स पर अपनी फोटो के एक पोस्ट शेयर की थी. उन्होंने एक्स पर सत्संग में हिस्सा लेने की तस्वीरें शेयर करते हुए एक पोस्ट भी लिखी थी. इसमें अखिलेश यादव ने कहा था कि नारायण साकार हरि की सम्पूर्ण ब्रह्मांड में सदा-सदा के लिए जय जयकार हो.

इटावा में पोस्टेड रहा है बाबा

यही नहीं उत्तर प्रदेश पुलिस में हेड कांस्टेबल की नौकरी के दौरान 28 साल पहले बाबा इटावा में भी पोस्टेड रहा है. जानकारी के मुताबिक नौकरी के दौरान रेप का मुकदमा लिखे जाने के बाद सूरज पाल को पुलिस विभाग से बर्खास्त किया गया था. जेल से छूटने के बाद वह अपना नाम और पहचान बदलकर बाबा बन गया था.

भोले बाबा को लोग प्रभु एवं परमात्मा भी कहते हैं. जैसे आमतौर एकदूसरे से मिलने पर हम लोग नमस्ते, राम-राम करते हैं मगर भोले बाबा के समर्थक नमस्ते की जगह ‘परमपिता परमेश्वर की संपूर्ण ब्रहमांड में सदा सदा के लिए जयजयकार हो जयजयकार हो’ कहते हैं. लोग भोले बाबा को परमपिता परमेश्वर मानते हैं. पूरा सत्संग बेहद गूढ़ होता है मगर भोले बाबा परमपिता परमेश्वर की बातें करते हैं. खुद को परमपिता परमेश्वर नहीं कहते हैं. संभल में भोले बाबा के तमाम सत्संग हो चुके हैं.

आगरा में भी बाबा साकार हरि का घर

बाबा का एक घर आगरा में भी है जो कि पिछले 10 साल से बंद पड़ा है. 10 साल पहले सूरज पाल उर्फ विश्व साकार हरि आगरा में रहता था. आगरा के केदार नगर में बाबा का घर है.

हाथरस हादसे में 100 से ज्‍यादा लोगों की मौत

उत्तर प्रदेश के हाथरस में भोले बाबा के सत्संग में हिस्सा लेने पहुंचे श्रद्धालुओं के बीच भगदड़ मच गई, जिसमें 100 से अधिकक लोगों की मौत हो गई. सीएमओ डॉ उमेश कुमार त्रिपाठी ने मौत के आंकड़ों की पुष्टि की है. सभी डेड बॉडी को एटा मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया है. बताया जा रहा है कि सत्संग में भीषण गर्मी की वजह से भक्तों की स्थिति खराब हो गई. सत्संग में हिस्सा लेने पहुंचे कई लोगों ने आपबीती सुनाई.

जा रहे चारधाम, तो यात्री के जरूरी खबर, जानें बद्रीनाथ के लिए खतरे की घंटी

असल में इस सत्‍संग का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में हाथरस कार्यक्रम को लेकर मंगलवार से करीब 4 दिन पहले सोशल मीडिया पर प्यारी दुलारी संगत सत्संग का प्रचार प्रसार किया जा रहा था. जिसमे बकायदा आज यानी 2 जुलाई की तारीख और जगह हाथरस की लिखी हुई है. बताया जा रहा है क‍ि इस सत्‍संग में भक्त ज्‍यादातर एक विशेष जाति के हैं. बताया जाता है इनके एक सत्संग में 1 लाख तक भक्त आते हैं. इनके साथ जुड़े कई भक्त तो सरकारी नौकरी से वीआरएस लेकर सत्संग में शामिल हुए है.

सत्संग में हिस्सा लेने पहुंची एक महिला ने बताया क‍ि हम कई लोगें के साथ एक गाड़ी में सत्संग में हिस्सा लेने पहुंचे थे. लेकिन अब हमें पता नहीं है कि कुल कितने थे, लेकिन मैं एक बात कह सकती हूं कि हमारे साथ कई लोग थे. सभी एक-दूसरे पर चढ़ रहे थे. एक दूसरे को धक्का दे रहे थे, जिसमें कई लोग दब गए. सत्संग समाप्त होने के बाद जब हम जा रहे थे, तभी लोग एक दूसरे को धक्का देने लगे. एक-दूसरे को कुचलने लगे.

सत्‍संग खत्‍म होने के बाद एक दूसरे पर चढ़े लोग

वहीं, सत्संग में हिस्सा लेने पहुंची ज्योति नाम की युवती ने भी वहां की स्थिति के बारे में विस्तार से बताया. उन्होंने कहा कि हम कई लोगों के साथ सत्संग में हिस्सा लेने पहुंचे थे. वहां बहुत सारे लोग थे. शुरू में तो सब कुछ ठीक ही था, लेकिन सत्संग समाप्त होने के बाद सभी लोग एक दूसरे पर चढ़ गए. पता ही नहीं चला कि ये सब कैसे हो गया. हमें बाहर निकलने की जगह ही नहीं मिल पा रही थी. सत्संग में कई लोग शामिल थे, जिसमें कइयों की मौत हो चुकी है.

इसके अलावा, सत्संग में हिस्सा लेने वाले लोगों ने अस्पताल की अव्यवस्था पर भी आक्रोश जताया है. लोगों का कहना है कि अस्पताल परिसर में लाशों का ढेर पड़ा हुआ है, लेकिन एक भी डॉक्टर किसी का भी उपचार करने के लिए तैयार नहीं हो रहे हैं. अस्पताल में महज एक ही डॉक्टर है. लोगों ने अपना रोष जाहिर करते हुए कहा कि पुलिस प्रशासन की लापरवाही की वजह से यह सब कुछ हआ. कल रात से ही रोड पर जाम लगा हुआ था. पुलिस ने वो जाम खुलवा दिया, जिसकी वजह से यह हादसा हुआ. लोगों ने कहा कि अस्पताल में लाशों का ढेर लग चुका है, लेकिन अस्पताल में एक ही डॉक्टर है.

webmorcha
बाबा साकार हरि के कार्यक्रम

लोगों ने कहा, अस्‍पताल में ऑक्‍सीजन तक नहीं

लोगों ने बताया कि अस्पताल में ऑक्सीजन तक नहीं है. ऐसे में यह कैसे किसी का उपचार कर सकेंगे. पुलिस से लेकर चिकित्सक से जुड़े सभी अधिकारी लापरवाही बरत रहे हैं. हमारी बात कोई सुनने के लिए तैयार नहीं है. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह ने मीडिया को बताया क‍ि सिकंदराराऊ के पास हाथरस जनपद स्थित एक गांव में सत्संग हो रहा था, जिसमें भगदड़ मच जाने से कई लोगों को मौत हो गई. वहीं कई घायल हो गए. सभी घायलों को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. वहां भोलेबाला का सत्संग चल रहा था, जिसमें कई लोग हिस्सा लेने पहुंचे थे. सूचना मिली कि भगदड़ मचने से यह हादसा हुआ. यह बहुत दुखद घटना है.

इस हादसे पर सीएम योगी की भी प्रतिक्रिया सामने आई है. उन्होंने जनपद हाथरस में हुए हादसे में मृतकों के शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की. साथ ही घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है. उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों को घायलों को तत्काल अस्पताल पहुंचा कर उनके समुचित उपचार कराने और मौके पर राहत कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने एडीजी आगरा और कमिश्नर अलीगढ़ के नेतृत्व में घटना के कारणों की जांच के निर्देश दिए हैं.

सांप ने लिया बदला, 5 बार काटा, बचने के लिए मौसी के घर गया तो वहां भी काटा

https://www.facebook.com/webmorcha

ये भी पढ़ें...