होम

दिल्ली में  पारा चढ़ा 53, जानें कितनी गर्मी बर्दाशत कर सकता है शरीर?

भीषण गर्मी

Highest temperature Delhi: इंडिया के अधिकतर क्षेत्रों में लोगों को प्रचंड गर्मी का सामना करना पड़ रहा है. इस बीच दिल्ली में गर्मी ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. भारत मौसम विज्ञान विभाग IMD के मुताबिक दिल्ली में 52.03 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया है. जो कि राष्ट्रीय राजधानी के इतिहास में अब तक का अधिकतम दर्ज किया गया तापमान है.

क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान साइट के अनुसार दिल्ली के मुंगेशपुर में तापमान 52.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो अब तक का उच्चतम तापमान है. IMD  ने घर से बाहर निकल रहे लोगों को गर्मी से बचने के लिए एहतियात बरतने की सलाह जारी की है.

राजस्थान से भी अधिक गर्मी दिल्ली में

गर्मी के चलते दिल्ली में बिजली खपत भी सातवें आसमान पर है. बिजली विभाग के अधिकारियों के मुताबिक गर्मी के मौसम में राष्ट्रीय राजधानी में 8,302 मेगावाट (MW) बिजली की मांग अब तक सबसे अधिक रही है. इसका सबसे बड़ा कारण दिल्ली के लोगों द्वारा एसी का ज्यादा इस्तेमाल बताया गया है. दिल्ली में जानलेवा गर्मी का अंदाजा इससे भी लगाया जा सकता है कि सबसे ज्यादा गर्म रहने वाले राजस्थान में भी पारा अब तक 51 डिग्री सेल्सियस तक ही पहुंचा है. हरियाणा के सिरसा में 50.3 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया.

गर्मी
गर्मी

जानें कितनी गर्मी बर्दाशत कर सकता है शरीर?

Human Body Temperature: मानव शरीर का सामान्य तापमान 98.9 डिग्री फॉरेनहाइट होता है. जो आपके बाहरी तापमान के 37 डिग्री सेल्सियस के बराबर होता है. आपका शरीर 42 डिग्री सेल्सियस तक तापमान सह सकता है.

कितनी गर्मी बर्दाशत कर सकता है मानव शरीर (ANI)

देश के कई राज्यों में भीषण गर्मी पड़ रही है. 16 मई से ही उत्तर-पश्चिम भारत में लू की स्थिति बनी हुई है और संभावना है कि अगले कुछ दिनों तक लोगों को इससे राहत नहीं मिलने वाली है. इस बीच मध्य प्रदेश के 20 जिलों में पारा 45 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया है. वहीं चार जिलों निवाड़ी, दतिया, खजुराहो और रीवा में मंगलवार को तापमान 48 डिग्री सेल्सियस से अधिक दर्ज किया गया है.

वहीं, झारखंड में तापमा 48 डिग्री पहुंच गया है. वहीं, हरियाणा पारा 49 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच चुका है. मौसम विभाग ने चंडीगढ़ में भी अगल हफ्ते तक हीटवेव का रेड अलर्ट जारी किया है, जबकि राजस्थान में तापमान 50 डिग्री के पार पहुंच गया है.

यहां पढ़ें: आखिर क्यों पड़ रही है इतनी गर्मी? जान लीजिए ये डराने वाली रिपोर्ट

बढ़ते तापमान गर्मी के कारण लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इसके चलते वेट-बल्ब टेंपरेचर की स्थिति बन रही है. वेट-बल्ब टेंपरेचर की स्थिति लोगों के लिए काफी ज्यादा खतरनाक होती है. इसमें तापमान बढ़ने के साथ-साथ हाई मॉइस्चर भी होता है. इसके चलते गर्मी बहुत ज्यादा हो जाती है. ऐसे में शरीर का कूलिंग सिस्टम फेल होने लगता है.

कितनी गर्मी बर्दाश्त कर सकती है मानव शरीर

ऐसे में सवाल यह है कि आखिर इंसान का शरीर आखिर कितना गर्मी तापमान सह सकता है. अगर आपको इस बात की जानकारी नहीं हो तो कोई बात नहीं आज हम आपको इसके बारे में ही बताने जा रहे हैं. इंसानी शरीर का सामान्य तापमान 98.9 डिग्री फॉरेनहाइट होता है. जो आपके बाहरी तापमान के 37 डिग्री सेल्सियस के बराबर होता है. जो 42 डिग्री सेल्सियस तक तापमान सह सकता है. इंसान के शरीर में एक खास तंत्र ‘होमियोस्‍टैसिस’ होता है, इंसान को इस तापमान में भी सुरक्षित रखता है.

T20 World Cup : तो Rohit नंबर-3 या 4 और Kohali-यशस्वी की जोड़ी करेगी ओपनिंग?

शरीर को होने लगता है नुकसान

42 डिग्री तापमान में इंसान जीवित रह सकता है, लेकिन अगर तापमान इससे ज्यादा हो तो वह इंसानी शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकता है. जैसे-जैसे तापमान जब 40 डिग्री पार होने लगता है, वैसे-वैसे लोगों को परेशानी होने लगती है.

अगर गर्मी पारा 45 डिग्री पहुंच जाए तो लोगों को बेहोशी, चक्कर या घबराहट जैसी शिकायतों हो सकती हैं. इसके अलावा लोगों का ब्लड प्रेशर कम होने की समस्या भी हो सकती है. वहीं, 48 से 50 डिग्री या उससे ज्‍यादा तापमान में बहुत देर रहते हैं तो मांसपेशियां पूरी तरह जवाब दे सकती हैं जो मौत भी बन सकती है. इंसानों के लिए 50 डिग्री का तापमान बर्दाश्त करना मुश्किल हो जाता है.

https://www.facebook.com/webmorcha

ये भी पढ़ें...